पहली बार अन्य पिछड़ा वर्ग की अलग गिनती

0
162
views

साल 2021 की जनगणना में आज़ाद भारत में पहली बार अन्य पिछड़े वर्गों (ओबीसी) से संबंधित आंकड़े एकत्रित किए जाएंगे.

देश में 1931 की जनगणना में आखिरी बार एकत्रित किए गए जातिगत आंकड़ों के आधार पर तैयार की गई मंडल आयोग की सिफारिशों पर तत्कालीन वीपी सिंह सरकार ने ओबीसी के लिए 27 प्रतिशत आरक्षण की घोषणा की थी.

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने 2021 की जनगणना के लिए तैयारियों की समीक्षा की जिसके बाद ओबीसी आंकड़े एकत्रित करने के फैसले की जानकारी दी गई.

गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा, ”पहली बार ओबीसी से संबंधित आंकड़े भी इकट्ठा करने का विचार किया गया है.”

ओबीसी नेताओं की ओर से लंबे समय से पिछड़ी जातियों की जनगणना कराने की मांग की जा रही है, ताकि आरक्षण और अन्य विकास योजनाओं में उनकी सही भागीदारी सुनिश्चित की जा सके.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here