News Space
देहरादून

किट्टी में धमका के वसूली,नए मेम्बर नहीं लाए तो पुरानी भूल जाओ

साहिबा जैन की मिसाल दे के चुप कराया जा रहा मेंबर्स को

पुलिस की नाक के नीचे किट्टी का खेल बादस्तूर जारी

बड़े माफिया छोटे माफिया का मार गए पैसा  

न पैसा दे रहे न सोना,सिर्फ पोस्ट डेटेड चेक दे रहे  

DM रविशंकर का ऐलान-किट्टी माफिया पर होगी सख्त कार्रवाई

चेतन गुरुंग

गैर कानूनी ढंग से करोड़ों की किट्टी चला रहीं माफिया अब दबंगई और बेशर्मी पर उतर आई हैं। कई तरह से और धमका के मेंबर्स पर दबाव डलवाने की कोशिश की जा रही है। वे अपनी एजेंट्स को भी दबाव में ले रहे हैं। साफ कह रहे हैं। पैसे तभी मिलेंगे, जब नई किट्टी के लिए नए मेंबर्स लाएँगे। उनकी घुड़की है-हम भी साहिबा जैन (किट्टी माफिया) और उसके पति की तरफ जेल में चले जाएंगे। पैसा नहीं देंगे। देख लेंगे तुम क्या कर सकते हो। पहले वे नगद के बजाए सोना देने की बात कर रहे थे। अब सोना भी देने को वे राजी नहीं है। सिर्फ एक-डेढ़ साल बाद के पोस्ट डेटेड चेक दे रहे। इसके शिकायत मिलने के बाद अब खुद जिलाधिकारी सी रविशंकर गैर कानूनी ढंग से चल रही किट्टी और उसके माफिया संचालकों के खिलाफ सख्ती करने जा रहे हैं।

कौलागढ़ में रहने वाली और तीन बेटियों की माँ अंजलि परेशान हैं कि आशा और उषा नागर की किट्टी में उन्होंने न जाने किस मुहूर्त में पैसा लगाया। अब सारा पैसा, जो लाखों में है, फंस चुका है। इसमें उन लोगों के पैसे भी हैं, जिन्होंने उनके भरोसे पर ये पैसे साल भर से ज्यादा वक्त से लगाया। सारे मेंबर्स दोनों नागर बहनों के घरों के चक्कर महीनों से सुबह-शाम लगा रहे हैं। अंजलि के अनुसार दोनों के घरों पर सुबह से ताला लगा रहता है। उनके लाखों रुपए फंसे हुए हैं। दोनों फोन भी नहीं उठाते हैं। उनसे संपर्क करना भी नामुमकिन सा हो गया है। पुलिस भी दोनों के खिलाफ कुछ कार्रवाई नहीं कर रही है।

नागर बहनों के धंधे में उनके पति और बेटे-बेटियाँ भी सक्रिय तौर पर जुड़े हैं। किट्टी के कार्ड्स पर उनके भी दस्तखत हैं। संगीता के अनुसार उसने नैशविला रोड पर बरखा की किट्टी में पैसे लगाए थे। महीनों गुजर गए हैं। उसने भी नहीं दिए। उसकी तरह और महिलाओं के पैसे भी वहाँ फंस गए हैं। क्रॉस रोड मॉल वाली पूजा के पास भी बीसियों किट्टी हैं। उसके मेम्बर्स भी बेहद परेशान हो चुके हैं। वे कभी उनकी शॉप में तो कभी घरों के चक्कर लगा-लगा के परेशान हो चुके हैं। पहले सोना देने की बात की उन्होंने। वे तैयार नहीं थे। नगद पैसा दिया है तो नगद ही चाहिए। अब सोना ही ले लेंगे सोचा लेकिन सोना भी नहीं मिल रहा। ये बात अलग है कि किट्टी किसी की बंद नहीं हुई हैं। नई खिलाई जा रही। पैसे इकट्ठे किए जा रहे। भुगतान जरूर रोक दिया गया है। या फिर भीख की तरह दी जा रही हैं।

डाकरा की एक महिला एजेंट ने मेंबर्स के साथ साहिबा जैन के भी पैसे मार दिये। अब मेंबर्स पुलिस का सहारा लेने जा रही हैं। मेंबर्स तकरीबन सभी महिलाएं हैं। उनको किट्टी माफिया साफ कह के धमका रहीं। हमको जेल भिजवाओगे तो अपना ही नुक्सान करोगी। साहिबा जैन की तरह हम भी जेल चले जाएंगे। फिर फूटी कौड़ी भी नहीं देंगे। वैसे बाजार की एक बुजुर्ग महिला को उसकी किट्टी माफिया ने 20 लाख की जगह अभी आठ हजार रुपए ही दिए गए हैं। बेचारी परेशान हैं कि इससे क्या होगा। उनकी समझ में नहीं आ रहा है कि क्या किया जाए।

DM सी.रविशंकर-किट्टी माफिया से सख्ती से निबटेंगे

पता चला है कि किट्टी खिलाने वाली माफिया भी करोड़ों की किट्टी खुद खेल रही हैं। उनके पैसे भी फंसे हुए हैं। बड़े माफिया उनके पैसे रोके हुए हैं। पुलिस-प्रशासन को कुछ पता नहीं चल रहा बस। सभी माफिया मेंबर्स को सिर्फ पोस्ट डेटेड चेक देने की बात कर रही हैं। आर्थिक मंदी का बहाना कर के वे पैसे देने को राजी नहीं। देहरादून के जिलाधिकारी एस रविशंकर ने इस बारे में Newsspace से कहा कि वह किट्टी में चल रहे धंधों पर सख्ती से लगाम लगाने के लिए जरूरी हुआ तो पुलिस के साथ कड़ा अभियान चलाएँगे। उनकी जानकारी में ये घोटाले नहीं थे। साफ छवि और प्रतिष्ठा वाले सख्त नौकरशाह रविशंकर इन दिनों शराब महकमे में हो रही धांधलियों और घोटालों को भी साफ करने में जुटे होने के कारण सुर्खियों में हैं।

Related posts

देहरादून के `Auric’ रेस्तरां में देखिए कैसे आवाज-संगीत से लोगों को बांधा अंकुर तिवारी ने..

admin

देहरादून पुलिस-मैंने तो दिया जीरो

Chetan Gurung

हादसे के बाद जो फरार हो गए थे, आए काबू ,निजी विवि में पढ़ रहे

Chetan Gurung

1 comment

Satish kukreti September 6, 2019 at 8:06 am

बधाई समस्या को किसी मुकाम तक पहुंचाया एक काबिल अधिकारी ने संज्ञान मे लिया

Reply

Leave a Comment