News Space

`मोदी-शाह’ ले रहे अनिल बलूनी की नियमित मेडिकल प्रोग्रेस रिपोर्ट

उत्तराखंड देहरादून राजनीती

सांसद तीरथ ने अस्पताल पहुँच कर पूछी कुशलक्षेम

बीजेपी के अस्वस्थ मीडिया प्रमुख से उत्तराखंड के नेताओं की बेरुखी!

कोश्यारी-रावत के अलावा कोई नहीं मिला,दिल्ली वाले ही मिल रहे

Chetan Gurung

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी के अध्यक्ष तथा गृह मंत्री अमित शाह कैंसर से पीड़ित बीजेपी के मीडिया प्रमुख और राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी के स्वास्थ्य संबंधी रिपोर्ट नियमित रूप से ले रहे। ये बात हैरान करने वाली है कि मुंबई के प्रसिद्ध और अत्याधुनिक चिकित्सा सुविधाओं से सज्जित अस्पताल में इतनी गंभीर बीमारी का ईलाज करा रहे अपने पहाड़ के प्रतिभावान और पकड़ वाले नेता की कुशलक्षेम पूछने सांसद तीरथ सिंह रावत के अलावा उत्तराखंड से कोई नहीं पहुंचा है।  

पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड़ड़ा तक अस्पताल पहुँच के बलूनी से मुलाक़ात कर चुके हैं। दिल्ली और अन्य राज्यों से पार्टी के बड़े नेता-नौकरशाह लगातार बलूनी के स्वास्थ्य को ले कर फिक्र जताते हुए अस्पताल पहुँच के मुलाक़ात कर रहे हैं। उनके शीघ्र स्वस्थ होने की दुआ कर रहे। पहाड़ के भगत सिंह कोश्यारी बलूनी से अस्पताल जा के मुलाक़ात कर चुके हैं। वह महाराष्ट्र के राज्यपाल होने के नाते मुंबई ही रहते हैं। महीने भर से ज्यादा समय से गंभीरतम बीमारी से जूझने की जानकारी के बावजूद उत्तराखंड के बीजेपी नेताओं की उनके प्रति बेरुखी समझ से बाहर है।

देहरादून से मुंबई सिर्फ सवा दो घंटे की फ्लाइट है। जितनी देर में दो बैठकें निबटती हैं, उतनी देर में उनसे मिल के लौट भी सकते हैं। बलूनी न सिर्फ पार्टी के बेहद शक्तिशाली और अहम कुर्सी मीडिया प्रमुख की कुर्सी पर भी हैं, बल्कि पीएम मोदी और अध्यक्ष शाह के सबसे विश्वासपात्रों में से हैं। उनको पार्टी महासचिव के समकक्ष माना जाता है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट भी अभी तक मिलने नहीं गए हैं। तीरथ कल मंगलवार को अस्पताल पहुंचे।

उन्होंने पहले उनके साथ रह रहे बीजेपी के युवा नेता और करीबी सतीश लखेड़ा से वस्तुस्थिति जानी। फिर बलूनी से मुलाक़ात की। तीरथ ने `Newsspace’ को बताया-`मेरी बलूनी जी से डेढ़ घंटे के करीब मुलाक़ात हुई। इस दौरान उनसे स्वास्थ्य के बारे में ही अधिक चर्चा हुई।’ उन्होंने कहा कि बातचीत के दौरान बलूनी काफी आश्वस्त दिखे। उनके सामने ही केंद्र से कई बड़े राजनेता और अधिकारी उनसे मिलने के लिए अस्पताल पहुँच रहे थे।

बलूनी के साथ सिर्फ एक अटेंडेंट लखेड़ा हैं, जो पार्टी के नेताओं और PMO-MhA-पार्टी नेताओं से संपर्क में है। परिवार के लोग आते हैं और कुछ वक्त बलूनी के साथ गुजार के लौट जाते हैं। लखेड़ा के मुताबिक नड़ड़ा भी अस्पताल आ के बलूनी से मिल चुके हैं। उन्होंने बताया कि अभी तक उत्तराखंड से सिर्फ राज्यपाल कोश्यारी और सांसद तीरथ ही मिलने आए हैं। बलूनी को उत्तराखंड की सियासत में भी बहुत तेजी से उभरते नेताओं में शुमार किया जाता है। अब इतनी गंभीर बीमारी में घिर जाने के बाद उत्तराखंड को उनके जरिये मिल रहे लाभ और फ़ायदों की भी रफ्तार मंद पड़ गई है।

पहाड़ में रेलमार्ग और नैनीताल-मसूरी में पेयजल संकट को दूर करने के लिए PMO के जरिये उनकी कोशिशें रंग ला रही हैं। बलूनी की देखरेख और प्रभावी ईलाज के लिए रिलायंस-टाटा-मैक्स-फोर्टिस-एम्स के विशेषज्ञ चिकित्सकों का विशेष पैनल काम कर रहा है।  

Related posts

शीर्ष चिकित्सकों के निगरानी में जूझ रहे सांसद बलूनी

Chetan Gurung

चीफ जस्टिस रंगनाथन ने की देहरादून जेल की भरपूर तारीफ

Chetan Gurung

Pm मोदी के स्वच्छ भारत मिशन की धज्जियां

admin

Leave a Comment