पहला लक्ष्य एशिया में टॉप 10 में जगह बनाई

0
176
views

नई दिल्लीःभारतीय फुटबॉल टीम के कप्तान और स्टार स्ट्रीकर सुनील छेत्री का मानना है कि भारत को सबसे पहले एशिया के शीर्ष 10 देशों में जगह बनाने का लक्ष्य रखना होगा तभी जाकर वह भविष्य में फीफा विश्व कप में खेलने के बारे में सोच पाएगा। अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों में देश के लिए सर्वाधिक गोल करने वाले छेत्री ने रविवार को गुडग़ांव स्थित हेरिटेज स्कूल में‘किया मोटर्स इंडिया’द्वारा स्कूली फुटबॉल खिलाड़ियों के लिए आयोजित ट्रायल से इतर संवाददाताओं से यह बात कही। किया मोटर्स फीफा का आधिकारिक पार्टनर है और उसने पहली बार इस तरह का ट्रायल आयोजित किया है जिसमें से चुने गए छह बच्चों को इस वर्ष रूस में होने वाले फीफा विश्व कप फुटबॉल टूर्नामेंट का हिस्सा बनने का यादगार मौका मिलेगा।

 

 

भारतीय कप्तान से भारत के भविष्य में कभी विश्व कप ममें खेलने की संभावनाओं के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ”भारत को फ़ीफ़ा विश्व कप मे भाग लेने के लिए अभी लंबा सफऱ तय करना पड़ेगा। भारतीय फुटबॉल के लिए विश्व कप तब ही संभव हो सकता है जब हम एशिया के पहले दस देशों मे जगह बनाएं और इस स्थान को लगातार बनाए रखें।” छेत्री ने कहा, ”एशिया में शीर्ष 10 देशों में जगह पक्की करने और इसे लगातार बनाए रखने के बाद भारत फिर इस महाद्वीप की शीर्ष पांच टीमों में आने का लक्ष्य रखे और इसे पूरा करे। एशिया से पांच टीमें विश्व कप में उतरती हैं।” उल्लेखनीय है कि भारत विश्व रैंकिंग में 97 वें और एशिया रैंकिंग में 15 वें नंबर पर है। छेत्री ने कहा, ”विश्व कप में खेलने को लेकर सवाल मुझसे सैकड़ों बार पूछा जा चुका है और इस समय मेरा मानना है कि हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। हमारे पास एक संतुलित टीम है जिसमें कई युवा खिलाडी हैं। मुझे, पॉल और जेजे को छोड़ दिया जाए तो अधिकतर खिलाडी युवा हैं। हमारी एक युवा टीम है और मुझे लगता है कि युवा खिलाडिय़ों को इस मौके को भुनाना चाहिए।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here