गुजरात में यूपी-बिहार वालों के साथ दुर्व्यवहार को लेकर बरेली में रोष।

0
162
views

बरेली:- गुजरात में उत्तर भारतीयो दिल खुसुस यु० पी० और बिहार के मज़दूरों व गरीबो के साथ हो रहे अनन्या व ज्यादती के खिलाफ आल इंडिया तन्जीम उल्मा-ए-इस्लाम ने संख्त एहतिजाज किया है। तन्जीम के महासचिव मौलाना शाहबुद्दीन रजवी के नेतृत्व में जिला आधिकारि के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन दिया गया है,

मौलाना ने कहा गुजरात में हिंदी भाषी उत्तर भारतीयो पर हो रहे हमलो और अत्याचार पर भारत के प्रधानमंत्री के ग्रह प्रदेश तथा अखंड भारत के सपने को देखने वाले वल्लभ भाई पटेल के जन्म भूमि तथा कम्रभूमि पर हिन्दी भाषीयो पर गुजरात प्रदेश वासियों की कार्यवाही से भारत की एकता अखंडता टूटने का खतरा बन गया है। ऐसे में इस गम्भीर समस्या पर राष्ट्र की एकता को तोड़ने वाली शक्तियों तथा उक्त प्रकरण पर विफल गुजरात सरकार के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करते हुए गुजरात सरकार को बखॉस्त करें।

मौलाना ने कहा कि जे० एन० यु० छात्र नजीव अहमद लापता प्रकरण पर सीबीआई की भूमिका पर देश की सबसे बड़ी जांच एजेन्सी पर प्रश्न चिन्ह लग गया है जो गम्भीर मामला है देश की सबसे महत्वपूर्ण ऐजंसी द्वारा हाथ खड़ा करने को देखते हुए सीबीआई की भूमिका पर देश का विश्वास कमजोर हुआ है, ऐसी स्थिति में इसका बना रहना देश हित में नहीं है।

मौलाना ने आगे कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने ४००० उदूॅ शिक्षाको को जो निकालने का निर्णय लिया है वो कार्य घोर निंदनीय के लायक़ है, उदूॅ भाषा गंगा जमनी तहजीब की अलामत है, इस भाषा में अपने पेट के अन्दर हिन्दी, संस्कृत, अरबी व फारसी के कल्चर को समेट कर रखा है ऐसी भाषा के टिचरो के साथ उत्तर प्रदेश सरकार का अनन्याय पूठ रव्यया फिरकापरस्ती की सोच को उजागर करता है।

ज्ञापन देने वालों में चौधरी अनवार ऐवज़, मौलाना ताहिर फरीदी, सलीम अन्सारी, अनवर रज़ा कादरी, अब्दुल अजीज अज़हरी, दानिश रज़ा, तस्सवुर हुसैन आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here