जनता दरबार में मंत्री और पार्षद के बीच हुई नोकझोक!

0
1312
views

पिछले दिनों शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक द्वारा राजधानी देहरादून के जिलाधिकारी कार्यालय में जनता दरबार का आयोजन किया गया इस दौरान वार्ड नं 17 के पार्षद एडवोकेट अरुण खन्ना जनता दरबार में पहुचें और मंत्री जी के समक्ष अपनी समस्याओं को अवगत कराना चाहा तो मंत्री जी ने पत्र लिखकर लेकर आने को कहा और ये कहकर पार्षद को जनता दरबार से टालने का प्रयास किया गया जिससे क्षुब्ध होकर पार्षद जी जनता दरबार के बाहर आ गए और और कुछ देर बाद एक शिकायती पत्र के साथ दूबारा जनता दरबार में आ धमके व शिकायतों को दर्ज कर रहे कर्मचारी से प्राथना पत्र को क्रमवार मंत्री जी के समक्ष प्रस्तुत करने को कहा प्रार्थना पत्र पर नज़र डालते ही कर्मचारियों ने खन्ना द्वारा दिये शिकायती पत्र को अलग रखने का प्रयास किया जिसपर आपत्ति दर्ज करते हुए पार्षद खन्ना ने पत्र को मंत्री जी के समक्ष स्वयं प्रस्तुत करना चाहा तो मंत्री जी ने पार्षद के पत्र का संज्ञान लेने के स्थान पर अनदेखा करते हुए अपने ओ एस डी को पकड़ा दिया जिसका विरोध करते हुए पार्षद खन्ना ने मंत्री के सामने ऊंचे स्वर मे प्रशासनिक अधिकारियों के ऊपर अपनी जिमेवरियों का निर्वाहन सुचारू रूप से न करने व विभागों में सामंजस्य न होने का आरोप लगाए जिसको लेकर मंत्री ने पार्षद से पूछ डाला कि “””क्या तुम पहली बार के पार्षद हो””” मंत्री और पार्षद के बीच जनता दरबार में तीखी नोकझोक हुई जिसको देखते हुए वहां उपस्थित महानगर अध्यक्ष विनय गोयल व अन्य ने बीच बचाव कर मामला शान्त करवाया जिसपर मंत्री जी ने पार्षद को जल्द उनके क्षेत्र का निरीक्षण कर उनके क्षेत्र की समस्या का निवारण करने का आश्वासन दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here