,

जो डाइरेक्टर थे, उनकी AMIE बेकार

सुप्रीम कोर्ट का फैसला-B Tech या BE के समकक्ष तक नहीं


THDC-IHET टिहरी के डायरेक्टर तोमर थे AMIE


WIT-देहरादून में प्रोफ़्सर के लिए आवेदन किया अब

चेतन गुरुंग

देश की सबसे बड़ी अदालत (SC) का आदेश आ गया है। देखिए और गुनिए। AMIE डिग्री नहीं है। ये BTech और BE के समतुल्य तो छोड़िए..समकक्ष भी नहीं है..13 अगस्त 2019 का है ये आदेश। उत्तराखंड में तो लोग सरकार से मिलीभगत कर सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेजों के डायरेक्टर तक बन गए। THDC-IHET टिहरी के डायरेक्टर गीतम सिंह तोमर भी AMIE ही थे।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने उनको बर्खास्त किया था। तमाम आरोपों और डिग्री का मामला सामने आने के बाद। सुना है कि तोमर ने एक बार फिर WIT-देहरादून में प्रोफेसर के लिए आवेदन किया है। कोई उम्मीद होगी सरकार से एक बार फिर जरूर। ऐसे ही कोई कैसे आवेदन कर लेगा? एक बात और..देश भर में उत्तराखंड ही दिखता है मौज की नौकरी के लिए? क्यों नहीं मध्य प्रदेश या उत्तर प्रदेश में नौकरी नहीं मांगते? जहां के हैं और जो घर के करीब है..शायद उत्तराखंड जैसी सेटिंग और राज्यों में मुमकिन नहीं.

तोमर सवा तीन साल से ज्यादा अरसे तक टिहरी में डाइरेक्टर रहे। हमेशा किसी न किसी विवादों से घिरे रहे। सरकार में जी हुज़ूरी ज्यादा करने और पकड़ के बावजूद हकीकत का खुलासा होने के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने तोमर को बर्खास्त कर दिया था। हैरानी इस बात पर जताई जा रही है कि तोमर का चयन करने के लिए जो समिति थी, उसके अध्यक्ष मुख्य सचिव और सदस्यों में यूटीयू के कुलपति तक शामिल थे। फिर भी वे तोमर से जुड़े दो मामलों को नहीं पकड़ सके।

एक तो तोमर ने आवेदन पत्र में खुद को AMIE न लिख के B tech लिखा था। उस आधार पर ही आवेदन पत्र रद्द कर दिया जाना चाहिए था। फिर ये भी पता नहीं कर पाए कि AMIE क्या वाकई B Tech या फिर BE के समतुल्य है? सरकार में सभी इस भ्रम में रहे कि AMIE इंजीनियरिंग डिग्रियों के समकक्ष है। अब सुप्रीम कोर्ट ने फैसले में तस्वीर साफ कर दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *