लूट-ठगी के पैसे देने के बजाए दे रहे धमकियाँ


मेम्बर्स को बोल रहे-नई किटी खेलोगे तभी पुराना मिलेगा

 पुलिस जैसे छात्रवृत्ति घोटाले में सो गई,वैसे ही किटी में भी

चेतन गुरुंग

देहरादून।

पुलिस और सरकार ये सोच रही है कि कुछ किटी माफिया के जेल चले जाने से इस अवैध और अनैतिक धंधे पर रोक लग गई है तो बहुत बड़ी गलत फहमी में जी रहे। राजधानी में आज भी चंद्रयान-2 की रफ्तार से रोज किटी हो रही। हजारों लोग इस साजिश-लूट में तबाह हो चुके हैं। सिवाय माफिया के। आए दिन लुटने-पिटने-हंगामे के मामले सामने आ रहे। पुलिस-प्रशासन है कि कोमा में चले गए हैं।

मुझे फिर कई किटी मेंबर्स ने संपर्क कर रोना रोया कि उनको उनके पैसे लौटाने को राजी नहीं हो रहे। उनके किटी माफिया। वे बोल रहे हैं कि पैसा तभी मिलेटा, जब वे खुद नई किटी खेलेंगे और नए मेंबर्स भी जुटाएँगे। ये क्या शर्त और बंदिश हुई? अपना ही पैसा लेने के लिए अब महिलाओं के पसीने छूट रहे। कई सीधी-साड़ी महिलाओं ने तो आए दिन की माफिया से मिल रही धमकी और फटकार के बाद घर बैठ जाना ही बेहतर समझ लिया है। कुछ पुलिस में जाने की तैयारी कर रही है।

कईयों ने मुझे अपने किटी माफिया की तरफ से जारी रसीदों की कॉपी भी भेजी है। माफिया हैं कि करोड़ों लूट के जेल जाना शायद उनको ज्यादा रास आ रहा..वे सोच रहे कि कुछ महीने जेल जा के खानदान की इज्जत भले चली जाए..करोड़ों बच तो रहे..। पुलिस को चाहिए कि एक साथ दोनों काम करे..। जेल भेजने के साथ ही संपत्ति की कुर्की कराने के लिए अदालत से फौरन आदेश कराएं..तब लोग खुद ही संपत्ति बेच के भी लोगों के खून-पसीने की कमाई चुकाने पर सोचेंगे…देने में तो उनके पुरखे तक मर रहे हैं..

एक से एक किटी माफिया के नाम सामने आ रहे..नेहा..बरखा..उषा..अड्डे भी जैसे..प्रिंस चौक (दून होटल)..आँगन-मनभावन..सब के सब डकैत..पैसा लेने में कसर नहीं छोड़ते..देने को राजी नहीं..। कई महीने हो गए..बस जेल जाने का इंतजार कर रहे शायद..। कई किटी माफिया बहुत शातिर हैं..संपत्ति अपने नाम की ही नहीं..बेनामी..करोड़ों कहाँ जा रहे? हाँ..पुलिस ने भले कई माफिया भीतर कर दिए..बचे हुए अभी भी उसी अंदाज में..नहीं खेलोगे तो पुरानी के पैसे देंगे..नहीं तो कुछ नहीं..। अब तो सर्जिकल स्ट्राइक वाले अंदाज में हमला होना चाहिए इन पर..। सरकार ने छात्रवृत्ति घोटाले में तो अब छिछालेदार करवा ली है..देहरादून के फन्ने खानों के सामने..फोटो भी है मेरे पास.. पुलिस को जरूरत होगी तो ले लें। माफिया उस्तादों की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here