Home उत्तराखंड देहरादून नहर तो सीधी थी,राजपुर रोड पर कम-ज्यादा कैसे ध्वस्त हो रहे अवैध...

नहर तो सीधी थी,राजपुर रोड पर कम-ज्यादा कैसे ध्वस्त हो रहे अवैध निर्माण

0
28

अब या जलेबी जैसी हो गई क्या अंडर ग्राउंड नहर?

सौंदर्यीकरण-सफाई पर भी दें ध्यान सरकार

Chetan Gurung



राजपुर रोड पर आखिर अवैध कब्जों के खिलाफ हो ही गया धूम-धड़ाका। आज जेसीबी ले के सरकार के अफसर-इंजीनियर जब अचानक चढ़ पड़े तो अफरा-तफरी का भारी आलम दिखा। राजपुर रोड पर मसूरी की दिशा से आओ तो सिंचाई महकमे के अधिकार वाली नहर भूमिगत है। इस नहर का पानी कभी गुरु राम राय दरबार साहब के तालाब में जाया करता था। अब तालाब में पानी की अपनी व्यवस्था है। नहर सीधी हुआ करती थी।

इस नहर के आधार पर ही आज ध्वस्तिकरण हुआ। हैरानी इस बात की हो रही थी कि कहीं 50 तो कहीं 20 फुट का ही निर्माण अवैध के नाम पर ध्वस्त हो रहा था। जब नहर सीधी है तो फिर नहर को कैसे छोड़ सकते हैं।..इसमें खेल तो नहीं हो गया लेकिन! सड़क किनारे की खुली नहर तो कईयों को याद होगी। सीधी वाली..क्या नहर जलेबी की तरह है नक्शे में? ऐसे ही तो मामले होते हैं..खा-गा लेने के.। बढ़िया वाले..30 फुट कब्जा छोड़ देने का मतलब तो आप क्या पूरी दुनिया जानती है..राजपुर रोड पर.।

और हाँ..दीवारें तोड़ तो दी..सड़कों को चौड़ी भी तो करेंगे न? फटाफट..त्याहारों का मौसम शुरू..कितना गंदा लगेगा..राजपुर रोड के किनारे ही जब मिट्टी और टूटे ईंट-पत्थरों के ढेर होंगे..सचिवालय के सामने एक ट्रस्ट का स्कूल है..बेसहारा और बिना माँ-बाप के बच्चों का।.उसको भी तुड़वाना चाह रहा था एक शख्स। बगल में उसकी संपत्ति है।..सुना कि वह उन लोगों में शामिल है..जिसने इस स्कूल की बेशकीमती जमीन को खरीद लिया है..। औरों के साथ मिल के..। कुछ लोगों ने विरोध कर स्कूल को जेसीबी के कहर से बचा लिया।

राजपुर रोड पर अवैध कब्जों को न तोड़े जाने पर सरकार सदा निशाने पर रही है। इस बार भी शहर भर में अवैध कब्जे ध्वस्त किए गए लेकिन राजपुर रोड हैरतनाक ढंग से बची हुई थी।

किसी को कानों-कान खबर नहीं हुई और आज जेसीबी की स्क्वाड ले के अभियान दस्ता पहुँच गया। साथ में भारी तादाद में पुलिस बल भी था। रामकृष्ण मिशन तथा उसके आसपास की संपत्ति की दीवारें, सचिवालय के राजपुर रोड गेट के सामने फैब इंडिया, KFC, डोमिनोज और कामिनी साड़ी के सामने के अतिक्रमण भी ध्वस्त किए गए।


NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

You cannot copy content of this page