, , ,

फिट हो के दिल्ली लौटा उत्तराखंड का दिलवाला

अनिल बलूनी की बीमारी के बाद अस्पताल से वापसी

CM त्रिवेन्द्र ने मिल के दी शुभकामनाएँ

गृह मंत्री अमित शाह से भी मिले बीजेपी के मीडिया प्रभारी

Chetan Gurung

लंबे समय से मुंबई में कैंसर का ईलाज कराने के बाद दिल्ली में उत्तराखंड के हक-हितों की बात रखने में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के असल मददगार अनिल बलूनी फिट हो के राष्ट्रीय राजधानी लौट आए हैं। वह BJP के मीडिया प्रभारी हैं, लेकिन अपना काम कब से नियमित रूप से देखना शुरू करेंगे, ये अभी साफ नहीं है।

बलूनी ने ईलाज से लौटते ही खुद को पार्टी मामलों में सक्रिय दिखाना शुरू कर दिया। उन्होंने अमित शाह से उनके आवास पर जा के मुलाक़ात की। खिले चेहरों के साथ फोटो खिंचवाई। साढ़े चार महीने पहले बलूनी जब ईलाज के लिए दिल्ली से मुंबई रवाना हुए थे तो शाह पार्टी अध्यक्ष थे। बलूनी से मिलने के लिए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र और बीजेपी के उत्तराखंड अध्यक्ष बंशीधर भगत भी पहुंचे।

दोनों ने बलूनी को शुभकामनाएँ दीं। बलूनी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह के करीबियों-विश्वासपात्रों में शुमार किया जाता है। मीडिया प्रभारी के नाते ये फैसला वही करते हैं कि किस न्यूज़ चैनल में कौन पार्टी प्रवक्ता नमूदार होगा। किस मुद्दे पर पार्टी की तरफ से प्रवक्ता या अन्य नेता क्या रुख अपनाएँगे, ये भी मोदी-शाह से चर्चा के बाद वही तय करते हैं।

बलूनी को इसलिए भी बहुत जल्द मशहूरी मिली कि वह उत्तराखंड से जुड़े अहम जनोपयोगी मुद्दों को केंद्र सरकार में प्रमुखता से उठाते रहे हैं। उनके गंभीर रूप से अस्वस्थ हो जाने से दिल्ली में उत्तराखंड के हितों की बात सशक्त ढंग से उठाने के लिए त्रिवेन्द्र को कोई मजबूत साथी नहीं मिल रहा था।

उम्मीद की जानी चाहिए कि एक बार फिर बलूनी पूर्व की भूमिका में लौट आएंगे। ऐसा समझा जा रहा है कि अगर बलूनी अस्पताल में न होते तो बजट और रेल सेवा मामलों में उत्तराखण्ड की उपेक्षा इस कदर न होती। इसके साथ ही इन दिनो मीडिया में जिस तरह बीजेपी लगातार TV Debates और अन्य मामलों में पिछड़ रही है, उसमें भी बलूनी सुधार ले आएंगे। उनके स्वस्थ हो के लौटने से पार्टी शीर्ष कमान ने जरूर ही चैन की सांस ली होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *