, , ,

Good न्यूज़:उत्तराखंड में Corona फेज-1 स्टेज

दुकानों का टाइम बढ़ा, दोपहर 1 बजे तक खुलेंगे

सब्जी की ठेलियाँ-आटा चक्की चलेंगी

CM का फरमान:5 एकड़ में बनेंगे प्री फैब अस्पताल

Chetan Gurung

उत्तराखंड के लिए शुभ समाचार ये है कि Corona डायन अभी यहाँ फेज-1 स्टेज में ही रुकी हुई है। जो भी केस इसके पाए गए हैं, वे सब बाहर से आए हुए लोगों से ताल्लुक रखते हैं। आज मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने Corona पर अहम बैठक की। इसमें जरूरी वस्तुओं की दुकानों का वक्त दोपहर 1 बजे कर दिया। देहरादून और हल्द्वानी में प्री फैब अस्पतालों के निर्माण के लिए 5 एकड़ जमीन तलाशने के लिए कलेक्टरों को निर्देश दिए गए। सब्जी की ठेलियाँ-आटा चक्कियाँ चलेंगी।

उच्च स्तरीय समीक्षा-प्रगति बैठक में स्वास्थ्य सचिव नितेश झा ने अभी तक की वस्तुस्थिति Corona नियंत्रण पर पेश की। उन्होंने बताया कि जो लोग बाहर से आ रहे हैं, उनको Home कोरंटाइन के लिए कहा जा रहा है। उत्तराखंड में एक भी ऐसा मामला सामने नहीं आया है, जो स्थानीय स्तर पर संक्रमित हुआ। जो 5 मामले सामने आए, वह बाहर से आए लोगों में मिले हैं।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि जरूरी वस्तुओं की दुकानों को खोलने का वक्त अब सुबह 7 बजे से दोपहर 1 बजे तक कर दिया जाए। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए ये फैसला किया गया। अभी तक सुबह 10 बजे तक ही दुकान खोले जा रहे थे। आटा चक्कियों के साथ ही सब्जी-फलों की ठेलियों को भी चलते रहने देने को कहा गया।

तैयारियों के मद्दे नजर देहरादून-हल्द्वानी में 500 बेड के प्री फैब अस्पतालों के निर्माण की योजना तैयार करने का फैसला किया गया। इसके लिए जिलाधिकारी अपने यहाँ 5 एकड़ जमीन तलाशेंगे। मुख्यमंत्री ने Corona पर अभी तक की प्रगति को संतोषजनक करार दिया। साथ ही स्थिति पर लगातार नजर रखने के निर्देश दिए। चार पहिया वाहनों पर पूरी तरह रोक लगाई गई। दोपहिया वाहनों पर सिर्फ सवार होगा।

झा ने कहा कि जिला अस्पतालों में Corona स्पेसिफिक अस्पतालों को स्थापित किया जा रहा है। वहाँ जरूरी दवाइयों और उपकरणों की व्यवस्था की गई है। खाद्य सचिव सुशील कुमार ने बताया कि राज्य के पास 3 महीने का खाद्यान्न उपलब्ध है। त्रिवेन्द्र ने बैठक में Home डिलिवरी और सोशल डिस्टेन्सिंग को और बेहतर करने पर बल दिया। ओवर रेटिंग के मद्दे नजर दुकानों के बाहर रेट लिस्ट लगाने और थोक आपूर्ति वस्तुओं की न रोकने के निर्देश भी दिए।

मुख्यमंत्री ने उन CMO और अफसरों को सहायक देने के निर्देश भी दिए, जिनके फोन नंबर सार्वजनिक किए जा रहे हैं। फार्मा उद्योग को निर्बाध रूप से चलते रहने देने और पंजीकृत या अपंजीकृत मजदूरों के साथ ही जरूरतमंदों को तत्काल मदद देने के निर्देश भी दिए। बैठक में मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह, DGP अनिल रतूड़ी, DG अशोक कुमार, वित्त सचिव अमित नेगी, शिक्षा सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम, श्रम सचिव हरबंस सिंह चुग भी थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *