, ,

फजीहत से जगी सरकार:दिल्ली में फंसे उत्तराखंडियों की मदद को आई आगे

रहने,खाने और घर छुड़वाने का का किया बंदोबस्त

ARC को मुख्यमंत्री राहत कोष से 50 लाख जारी

UP की योगी सरकार ने बसों में भिजवाए हैं उत्तराखंडी

Chetan Gurung

बहुत फजीहत के बाद आखिर उत्तराखंड सरकार दिल्ली और अन्य जगहों पर फंसे उत्तराखंडियों की मदद के लिए जाग गई। सुबह-सुबह इस बाबत आदेश जारी कर 50 लाख रुपए भी सहायता मद में दिल्ली के ARC दफ्तर को दे दिए।

मुख्यमंत्री की सचिव राधिका झा की तरफ से ARC (अपर स्थानिक आयुक्त) को जारी आदेश में कहा गया है कि जारी धनराशि से फंसे हुए लोगों की मदद की जानी है। खर्च सिर्फ इसी मद में किया जाएगा। इसका हिसाब भी उनसे ही लिया जाएगा। वही जिम्मेदार होंगे।

आदेश में साफ कहा गया है कि जो भी उत्तराखंडी Corona वाइरस के कारण Lock Down में फंस गए हैं, उनके रहने, खाने और उनको घर तक पहुंचाने का जिम्मा ARC का होगा। सरकार के इस आदेश में हालांकि ये साफ नहीं है कि रहने और खाने की व्यवस्था कैसे और कहाँ की जाएगी।

उत्तराखंड के हजारों लोग किसी न किसी कारण से दिल्ली के कई हिस्सों में फंस के बहुत बुरी और भय-आशंका की जिंदगी जी रहे हैं। कई ऐसे हैं, जिनके पास न अपना घर है न ही पैसे। उनको खाने-पीने को कुछ नहीं मिल रहा। बाहर निकलने की कोशिश करो तो पुलिस मार के भगा रही है।

कई ऐसे भी हैं जो बाहर से आए और घर जा रहे थे। Lock Down के कारण दिल्ली में फंस गए। उनके पास रहने के लिए भी छत नहीं है। बसों और परिवहन के अन्य साधन बंद होने से वे कैदी से बदतर जिंदगी गुजार रहे। इस बीच UP के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तराखंड के लोगों को निकाल के देहरादून, हल्द्वानी UP रोडवेज के बसों से भिजवा दिया।

इससे योगी सरकार की जम के वाहवाही हो रही। इसके बाद ही त्रिवेन्द्र सरकार ने फजीहत से बचने के लिए अब अपने लोगों को दिल्ली से निकाल लाने का कदम उठाया है। सरकार को तब भी शर्मिंदगी उठानी पड़ी जब ARC ने दिल्ली में अपनी तरफ से कोई कदम नहीं उठाया। मुख्यमंत्री ने जो नंबर अपने अफसर आलोक पांडे का अपने FB पेज पर दिया, वह बंद ही रहा।

अब उठाए जा रहे कदम फटे हुए पर पैबंद लगाना कहा जा सकता है। भले इससे फंसे हुए लोगों को राहत मिलेगी। इस बात पर हैरानी जताई जा रही है कि इतना अहम फैसला करने में सरकार को इतना वक्त कैसे लग गया। क्यों उनके सलाहकारों ने उनको इस बारे में सही सलाह नहीं दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *