Home उत्तराखंड उत्तराखंड:सरकार की कॉरोना से नवंबर तक जंग की तैयारी

उत्तराखंड:सरकार की कॉरोना से नवंबर तक जंग की तैयारी

0
43

केंद्र और यूपी से बेहतर प्रदर्शन का दावा

हरिद्वार के भी ऑरेंज जोन में शामिल होने की उम्मीद

Chetan Gurung

उत्तराखंड सरकार ने आज कॉरोना से जंग के लिए नवंबर तक की तैयारी करने और केंद्र और यूपी सरकार से बेहतर प्रदर्शन का दावा किया। साथ ही कहा कि जो लोग बाहर फंसे हुए हैं, उनको तेजी से लाया जाएगा, साथ ही ग्राम प्रधानों से कहा गया है कि जो लोग घरों में कोरेंटाइन किए जा सकते हैं, उनको सार्वजनिक कोरेंटाइन सेंटर में न भेजा जाए।

Minister Madan Kaushik

कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने सरकार के प्रवक्ता के तौर पर आज पत्रकारों से कहा कि पहले हमारी तैयारी सितंबर तक की थी। अब ये फैसला किया गया है कि अगर देश में कॉरोना को ले कर माहौल ऐसा ही रहता है तो फिर नवंबर तक की व्यवस्था करने का फैसला किया गया है। उत्तराखंड की कॉरोना को ले कर तैयारियों को उन्होंने केंद्र सरकार और यूपी सरकार से बेहतर करार दिया।

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में सैंपल साइज लेने का औसत 10 लाख में 820 है, जो केंद्र के 467 से बेहतर है। प्रदेश में पॉज़िटिव केस .7 फीसदी है, जो देश के 2 फीसदी से कहीं कम है। रिकवरी का औसत 64 फीसदी है। केंद्र सरकार का 28.8 फीसदी है। 61 केस में से 39 ठीक हो चुके हैं। एक जो मौत कॉरोना से बताई जा रही है, उसको Aiims ने किसी और वजह से बताया है। डेडिकेटेड वेंटीलेटर, अस्पताल, आइसोलेटेड बेड के मामले में भी उत्तराखंड बहुत बेहतर सूरत में है।

कौशिक ने कहा कि जो फंसे लोग बाहर से आ रहे हैं, अगर उनके घरों में 2 या 3 कमरे गाँव में हैं तो उनको घरों में ही कोरेंटाइन करने के लिए ग्राम प्रधानों से कहा गया है। सार्वजनिक कोरेंटाइन सेंटर में उनको ही भेजने के लिए कहा गया है, जिनके घरों में कोरेंटाइन की जगह उपलब्ध नहीं है। ऐसा इसलिए किया जा रहा है कि कई गांवों में लोग बाहर से आ रहे लोगों का विरोध कर रहे हैं।

सरकारी प्रवक्ता के मुताबिक 1,70,252 फंसे लोग (अन्य राज्यों में) आज तक रजिस्टर्ड हो चुके हैं। अपने वाहनों से गढ़वाल से 7625 और कुमायूं से 4895 लोग आना चाहते हैं। राज्य सरकार के परिवहन से 79,000 लोग आना चाहते हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि उत्तराखंड का प्रदर्शन बेहतर देखते हुए प्रदेश में एक भी जिला केंद्र की अगली कॉरोना रिपोर्ट में रेड नहीं रह जाएगा। ये ऑरेंज या फिर ग्रीन जोन में होंगे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

You cannot copy content of this page