4 देहरादून और 2 उधमसिंह नगर में मिले

सीएम त्रिवेन्द्र ने और सख्ती पर दिया बल

फरमान:थूकने और मास्क न पहनने पर कार्रवाई करें

Chetan Gurung

शनिवार का दिन Covid-19 के लिहाज से देवभूमि के लिए बहुत काला साबित हुआ। दोपहर तक की रिपोर्ट में ही 6 लोग कोरोना पॉज़िटिव पाए जाने से प्रशासन से ले के शासन तक खलबली मच गई है। देर रात तक ये आंकड़ा थमा रहता है, या और आगे बढ़ता है, इस पर अब धुकधुकी बढ़ गई है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने Covid-19 की समीक्षा बैठक में और सख्ती करने की हिदायत अफसरों को दी। साथ ही सार्वजनिक स्थानों पर थूकने और मास्क न पहनने वालों पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए। प्रदेश में स्टोरी अपलोड होने तक 88 कोरोना पॉज़िटिव हो गए हैं।

देहरादून के 4 लोग दून मेडिकल कॉलेज की रिपोर्ट में पॉज़िटिव पाए गए। उनकी ट्रेवल हिस्ट्री अभी साफ नहीं है। 2 लोग उधम सिंह नगर में पॉज़िटिव पाए गए। देहरादून में पॉज़िटिव पाए जाने वालों में एक 49 साल का पुरुष, एक 15 साल का किशोर और एक 10 साल का बच्चा शामिल है। पॉज़िटिव पाई गई महिला 32 साल की है। महाराष्ट्र और गुरुग्राम से आए तथा उधम सिंह नगर में पॉज़िटिव पाए गए दोनों युवक 18 साल के हैं।

लोक डाउन-3 में तमाम छूटों के बाद अचानक ही कोरोना पॉज़िटिव केसों के बढ़ जाने से अब उत्तराखंड सरकार भी फिक्रमंद नजर आने लगी है। मुख्यमंत्री रावत ने समीक्षा बैठक में आज कहा कि सार्वजनिक स्थानों पर थूकने पर सख्ती से रोक लगाना और बिना मास्क के निकलने वालों पर कार्रवाई करना जरूरी हो गया है। राज्य सीमाओं पर कोविड-19 का परीक्षण का बोझ बहुत अधिक हो गया है। इसे कम करने के लिए जिला प्रशासन को अपने यहाँ आ रहे लोगों का थर्मल परीक्षण कराना होगा।

त्रिवेन्द्र ने कहा कि बाहर से आ रहे लोगों को क्वारेंटीन ढंग से कराना होगा। ये भी डाटा रखा जाए कि उनको कहाँ क्वारेंटिन किया जा रहा है। अगर कोई कोरोना पॉज़िटिव पाया जाता है तो अन्य लोगों को ट्रेस करने में इससे आसानी होगी। प्रदेश में कंट्रोल रूम और आईटी सेक्टर को कोरोना से लड़ाई के लिए मजबूत करना होगा।

त्रिवेन्द्र ने कहा कि अगर उत्तराखंड में रह रहे श्रमिक अपने राज्यों में लौटना चाहते हैं तो उनके लिए उन वाहनों में भेजने की व्यवस्था की जाए, जो उनके ही राज्य में जा रहे हैं। बैठक में मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह, एसीएस ओमप्रकाश, डीजीपी अनिल रतूड़ी, सचिव अमित नेगई, नितेश झा, शैलेश बगौली, संजय गुंज्याल, एनएचएम निदेशक युगल किशोर पंत और डीजीएच अमिता उप्रेती भी थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here