,

Good News:शाबास हरिद्वार, Red से हुआ Green

जानिए किस जोन में है आपका जिला,इंटर स्टेट बसें चलेंगी

ऑड-ईवन फॉर्मूले पर चलेंगी आपकी गाड़ियां

गाड़ी का नंबर तय करेगा सड़क पर किस दिन चलेगी

जानिए कैसे तय होता है Red,Orange,Green जोन

Chetan Gurung

केंद्र सरकार की गाइड लाइन मिलने के बाद उत्तराखंड सरकार ने अपने जिलों का कलर मानकों के मुताबिक खुद तय किए तो हरिद्वार ने जबर्दस्त कामयाबी की छलांग लगाते हुए Red से सीधे Green जोन में प्रवेश किया। अब आपकी गाड़ी का रजिस्ट्रेशन नंबर तय करेगा कि आप किस दिन गाड़ी ले के निकलेंगे।

Chief Secretary Utpal Kumar Singh

मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने दिन भर की मशक्कत के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जिलों के रंग नए मानकों के मुताबिक बताए। हरिद्वार तब तक Red जोन में रहा, जब तक केंद्र सरकार तय कर रही थी। इसके चलते काफी अंगुलियाँ भी सरकार पर उठ रही थीं कि कम कोविड पॉज़िटिव होने के बावजूद हरिद्वार कैसे Red और बाकी जिले कैसे ऑरेंज या ग्रीन हैं।

काँग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने जिलों की श्रेणियाँ तय करने का जिम्मा स्थानीय प्रशासन और DM पर छोड़नी की जरूरत जताई ठी कि असलियत वे जानते हैं। रंग और श्रेणी के हिसाब से अब जिलों को इस तरह देखें।

Orange-देहरादून, अल्मोड़ा, नैनीताल, पौड़ी, उधम सिंह नगर, उत्तरकाशी

Green-बागेश्वर, चमोली, हरिद्वार,चंपावत, टिहरी, पिथौरागढ़, रुद्रप्रयाग

सरकार ने तय किया कि केंद्र से फैसले करने में मिली छूट के बाद अब गाड़ियों को उनके Odd और Even नंबर के आधार पर चलने की छूट दी जाएगी। ये व्यवस्था हल्द्वानी, रुद्रपुर, काशीपुर, देहरादून, हरिद्वार और कोटद्वार में की गई है। केंद्र से बसों तथा अन्य वाहनों के संचालन में छूट मिली है, लेकिन इंटर स्टेट बस सेवा शुरू करने के लिए अन्य राज्यों के जोन नए सिरे से निर्धारित होने का इंतजार करना होगा। किस जोन में जाना है और कैसे जाना है। इस पर जल्दी फैसला होगा। 1.14 लाख प्रवासियों ने घर वापसी की।

जिलों के भीतर अलबत्ता बसें चलेंगी। विक्रम-टेम्पो भी चलेंगे। इस बारे में नियम तय किए जा रहे हैं। बाजार अब पूरी तरह खोले जा सकेंगे। सिर्फ वे दुकानें बंद रहेंगी, जिनको केंद्र ने ही प्रतिबंधित किया हुआ है। बारबर शॉप (बाल काटने की दुकान)-ब्यूटी सैलून के बारे में केंद्र सरकार ने कुछ नहीं कहा है। इस बाबत राज्य सरकार खुद फैसला करेगी कि क्या करना है।

स्टेडियम-स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स खोले जाएंगे, लेकिन दर्शक नहीं होंगे। बाकी वे सभी स्थान बंद रहेंगे, जो केंद्र सरकार ने ही बंद कर दी हैं।

माल्स-सिनेमा हाल, रेस्तरां, धार्मिक स्थल भी नहीं खुलेंगे। दफ्तर (10-4) और बाजार खोलने-बंद करने का वक्त (सुबह 7 से शाम 4) पूर्व की तरह रहेगा। शिक्षण संस्थान बंद ही रहेंगे। शाम 7 से सुबह 7 बजे तक कर्फ़्यू रहेगा।

मुख्य सचिव ने कहा कि 2.25 लाख प्रवासियों ने उत्तराखंड वापसी के लिए आवेदन किया था और आधे से अधिक को उनके घर पहुंचा दिया गया है। उन्होंने बताया कि जोन तय करने के लिए 6 मानक बनाए गए हैं। किसी जिले में एक लाख की आबादी पर 15 से अधिक एक्टिव केस हो तो वह रेड जोन में आएगा। अगर किसी जिले में कोई केस न हो तो वह ग्रीन जोन होगा। अगर 0 से 15 के बीच एक्टिव केस हो तो वह ऑरेंज होगा।

इसके साथ ही मृत्यु दर 6 फीसदी से ज्यादा हो, डबलिंग रेट 14 दिन से कम है तो रेड जोन होगा। टेस्टिंग दर 1 लाख में 65 से कम है तो रेड जोन होगा। लाख में 200 से ज्यादा टेस्ट हुआ तो वह ग्रीन जिला होगा। सैंपल अगर 6 फीसदी से ज्यादा पॉज़िटिव तो रेड और 2 फीसदी से कम है तो ग्रीन जोन होगा। दोनों के बीच वाले को ऑरेंज जोन होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *