, ,

बुरी खबर:कोरोना तबाही:रात शुरू हुई भी नहीं और 92 पॉज़िटिव, 244 हुआ आंकड़ा

महाराष्ट्र से आए 55 पॉज़िटिव एक साथ नैनीताल में पाए गए

अभी ये आलम तो लॉक डाउन-4 के बाद क्या होगा?

Chetan Gurung

कोरोना ने आज उत्तराखंड में तबाही मचा दी। सबसे ज्यादा 92 कोरोना पॉज़िटिव केस रात 8 बजे तक हो चुके हैं। 55 पॉज़िटिव तो सिर्फ नैनीताल में मिले, जो महाराष्ट्र से रेल से आए थे। सरकार के लिए हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। रात तक 244 केस कोरोना पॉज़िटिव के आ चुके थे।

आज आधे दिन तक ही 20 नए कोरोना पॉज़िटिव केस सामने आए थे। दूसरी रिपोर्ट में 72 लोग और पॉज़िटिव निकले। रात तक की रिपोर्ट में न जाने कितने और निकलेंगे। महाराष्ट्र से जो ट्रेन आई उसमें कोरोना पॉज़िटिव की भरमार निकली। एनएचएम निदेशक और अपर सचिव (स्वास्थ्य) युगल किशोर पंत ने `Newsspace’ से कहा, `55 जो लोग नैनीताल में पाए गए, वे उसी ट्रेन से आए थे’। वे हरिद्वार तक रेल से आए, फिर वहाँ से सड़क मार्ग से नैनीताल गए थे।

देहरादून में भी 8 पॉज़िटिव पाए गए। वे दिल्ली, राजस्थान, मुंबई और गुरुग्राम से आए थे। उधम सिंह नगर में मुंबई और गुजरात से आए 3, रुद्रप्रयाग में दिल्ली से आए 3, पौड़ी में महाराष्ट्र से आए 2 और हरिद्वार में सहारनपुर से आया 1 मरीज पॉज़िटिव निकला है। सरकार की समझ में नहीं आ रहा है कि इस संकट को किस तरह काबू किया जाए। सुबह की रिपोर्ट में शांत और दूरस्थ जिले चंपावत में 7 कोरोना पॉज़िटिव मिलने से जिला प्रशासन में हड़कंप की स्थिति है।

एक कोरोना पॉज़िटिव की मौत पर सरकार ने रिपोर्ट दी है कि उसकी वजह कोरोना न हो के अन्य स्वास्थ्य संबंधी कारण था। ये मरीज एम्स, ऋषिकेश में एड्मिट था। प्रवासियों के वापिस उत्तराखंड अपने घर आने के बाद कोरोना पॉज़िटिव की तादाद डरावनी उछाल मार रही है। सरकार की समझ में नहीं आ रहा है कि आखिर किस तरह प्रवासियों को भी लाया जाए और कोरोना केस भी तूफानी रफ्तार से न बढ़े। डबलिंग रेट ऐसा ही रहा तो लॉक डाउन-4 के बाद 1 जून से जब और छूट मिलेगी तो कोरोना का प्यासा-खूनी शिकंजा और खतरनाक हो सकता है।

उत्तराखंड में त्रिवेन्द्र सरकार शुरू में बहुत खुश थी कि उसने इस महामारी को न सिर्फ काबू में रखा है, बल्कि डबलिंग रेट के मामले में भी उसका रेकॉर्ड बेहतरीन है। अपर सचिव युगल ने कहा कि सरकार के पास 10 हजार तक कोरोना मरीजों के लिए बंदोबस्त है। अभी वेंटीलेटर की जरूरत वाले केस सामने नहीं आए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *