तकरीबन सब कुछ Open,धार्मिक स्थल,होटल,रेस्तरां खुल गए

राज्य या राज्य से बाहर कहीं भी आएँ-जाएँ, पूरी आजादी

कर्फ़्यू भी हुआ छोटा,स्कूल-कॉलेज पर फेज-3 में फैसला

धार्मिक स्थल,होटल-रेस्तरां खुलने से उत्तराखंड को फायदा

Chetan Gurung

मोदी सरकार ने जब कुछ सैकड़े में कोरोना पॉज़िटिव थे तो अर्थ व्यवस्था हिलाने-डांवाडोल कर देने वाले लॉक डाउन को शुरू किया और जब ये महामारी काबू से बाहर दिख रही तो आज तकरीबन सब कुछ खोलने का फैसला कर दिया। रात्रि कर्फ़्यू भी अब शाम 7 बजे के बजाए रात 9 बजे शुरू होगा और सुबह 7 बजे के बजाए 5 बजे तक ही रहेगा।

केंद्रीय गृह मंत्रालय की तरफ से घोषित लॉक डाउन-5, जो दरअसल अनलॉक-1 है, को 1 जून से 30 जून तक किया गया है। इसमें तमाम छूटें दे दी गई हैं। सिवाय जिम-खेल और धार्मिक-सामाजिक गतिविधियां खोलने पर अभी भी प्रतिबंध के। इस बारे में फेज-3 में शायद फैसला किया जाएगा। इस बार केंद्र सरकार ने लॉक डाउन-5 में 3 फेज बनाए हैं।

पहले फेज में धार्मिक स्थल, होटल और रेस्तरां खोलने का फैसला किया है। इसके साथ ही अन्य आतिथ्य-सत्कार से जुड़े व्यवसायों को राहत दी है। शॉपिंग मॉल भी 8 जून से खोले जा सकेंगे। केंद्र सरकार इस बारे में स्टैंडर्ड ऑप्रेटिंग प्रोसीजर (SOP) जारी करेगी। इसके लिए वह महकमों के साथ विचार-विमर्श करेगी।

राज्य सरकारों से बातचीत कर के फेज-2 में स्कूल, कॉलेज, अन्य शिक्षण संस्थान, प्रशिक्षण संस्थान भी खोल दिए जाएंगे। राज्य सरकारों से कहा गया है कि वे अभिभावकों से भी इस बारे में बात करें। लोगों के राज्य के भीतर तथा अन्य राज्यों में जाने और आने की सभी बन्दिशों को केंद्र सरकार ने UnLock-1 में पूरी तरह हटा दिया है। रात का कर्फ़्यू कायम रखा है, लेकिन रात को सिर्फ 8 घंटे रहेगा। पहले ये 12 घंटे था।

उत्तराखंड को फेज-1 में मिली धार्मिक स्थलों और होटल-रेस्तरां को छूट के फैसले से निश्चित रूप से राहत मिलेगी। पर्यटन और धार्मिक पर्यटन सीजन शुरू हो चुका है। ऐसे में इस छूट से राज्य सरकार के साथ ही इन रोजगारों से जुड़े स्थानीय लोगों को बहुत सुकून मिला होगा।

जिनको खोलने पर अभी भी फैसला नहीं हुआ है, उनमें जिम, बार, स्विमिंग पूल, थियेटर, मल्टीप्लेक्स, खेल गतिविधियां, मनोरंजन पार्क, सभागार, खेल, धार्मिक और सामाजिक आयोजन प्रमुख रूप से शामिल हैं। इंटरनेशनल उड़ान और मेट्रो रेल संचालन को भी मंजूरी नहीं दी गई है। इनमें से किसी को भी छूट देने के बारे में फेज-3 में फैसला होगा।

सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनना अनिवार्य है और थूकने पर कार्रवाई होगी। कंटेननेंट जोन में पूर्व की भांति सभी सख्ती जारी रहेगी। 65 साल से ऊपर के लोगों, गर्भवतियों और 10 साल से कम उम्र वालों को घर में ही रहने की हिदायत बरकरार रखी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here