डॉक्टर नहीं नर्सों-सफाई कर्मचारियों की तारीफ की

बेहतर व्यवस्था के लिए CM त्रिवेन्द्र का जताया आभार

Chetan Gurung

देहरादून के एक और कोविड-19 मरीज अमित पुंडीर ने `Newsspace’ को वीडियो संदेश भेज कर अपना अनुभव और कोरोना के बारे में लोगों को जानकारी दी। उसने ये भी कहा कि कोविड (दून) अस्पताल में एक हफ्ते में सिर्फ एक दिन ही डॉक्टर देखने आया, लेकिन नर्सों और सफाई कर्मचारियों ने बहुत अच्छे से उसकी और बाकी मरीजों की देखभाल की। उसने मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के साथ ही उनका भी शुक्रिया अदा किया। साथ ही ये भी संदेश दिया कि जरूरी नहीं है कि सिर्फ कोई लक्षण दिखने पर ही कोरोना से ग्रस्त होते हैं।

डाकरा कैंट के संजय विहार कॉलोनी के ही दूसरे कोविड-19 मरीज ने वीडियो सदेश में बताया, `मैं 25 मई को मुंबई से देहरादून कार से आया। आशा रोड़ी चेक पोस्ट पर सैंपल लिया गया। मुझे कहा गया कि आप घर पर क्वेरेंटिन रहिए। इस दौरान घर पर मुझे पुलिस वालों के फोन रोजाना आते रहे। वे बहुत अच्छे से बात करते थे। कोई दिक्कत तो नहीं महसूस हो रही?

Covid-19 Patient:Amit Pundir

अमित ने कहा,`29 मई को सैंपल रिपोर्ट में मुझे पॉज़िटिव पाया गया। इसके बाद मुझे 24 घंटे के भीतर दून अस्पताल ले जाया गया। वहाँ मुझसे पूछा गया कि कोरोना से जुड़े कोई लक्षण तो महसूस नहीं कर रहे? मैंने कहा नहीं। अमित के मुताबिक मुझे वहाँ मेडिकल-1 वार्ड में भर्ती किया गया था। उसने कहा कि मेरे में ऐसे कोई लक्षण ही नहीं थे, जो कोरोना को पुष्ट करते’।

उसने कहा, `मैं ये कहना चाहूँगा कि जरूरी नहीं है कि लक्षण दिखने पर ही कोरोना पॉज़िटिव हो। अगर किसी की इम्यूनिटी बहुत अच्छी होगी तो उसको कोरोना के लक्षण भी नहीं दिखेंगे। जैसे मुझे नहीं दिखाई दिए। टेस्ट कराने के बाद ही पता चला कि मुझे कोरोना हो गया है’। अस्पताल में जब तक वह रहा, सिर्फ एक बार डॉक्टर आया। उसके मुताबिक मेरे से डॉक्टर ने एक बार सिर्फ इतना पूछा कि आप कैसे हो? कोई लक्षण तो नहीं लग रहे कोरोना के?

अमित ने कहा, `नर्सों-सफाई कर्मचारियों ने जरूर हमारा बहुत ख्याल रखा। एक्स रे-ईसीजी सभी कार्य नर्सों के जरिये ही हुए। हो सकता है कि डॉक्टर बहुत व्यस्त रहे होंगे’। अमित ने कहा कि वह अब सर्वे चौक कोविड केयर सेंटर में है। यहाँ बहुत अच्छी व्यवस्था की गई है। खाना अच्छा मिल रहा है। रहने के लिए बढ़िया कमरे हैं। एक कमरे में दो लोगों को रखा गया है। पीने के पानी की व्यवस्था भी बहुत अच्छी है। हमारे लिए अलग से पानी की बोतल का बंदोबस्त भी किया गया है।

इस युवा कोविड-19 मरीज ने कहा कि मिल रही सुविधाओं के लिए वह मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत का बहुत शुक्रिया अदा करना चाहता है। 25 साल के अमित को जो टैक्सी चालक देहरादून छोड़ने आया था, उसने उसकी कॉलोनी के ही सूदन गुरुंग के रेस्तरां से कोल्ड ड्रिंक्स की बोतल खरीदी थी। उसके दिए रुपए से ही सूदन को कोरोना हुआ, ऐसा माना जा रहा है। सूदन भी अमित के साथ एक ही केयर सेंटर में है। अमित भी अब तकरीबन ठीक हो चुका है। एकाध दिनों में उसको सेंटर से छुट्टी मिल जाने की उम्मीद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here