Home उत्तराखंड Breaking News:PM to CM:बद्रीनाथ-केदारनाथ के 100 साल की विकास योजना बनाएँ

Breaking News:PM to CM:बद्रीनाथ-केदारनाथ के 100 साल की विकास योजना बनाएँ

0
25

मोदी ने त्रिवेन्द्र से लिया धामों की प्रगति का ड्रोन से जायजा

उत्तराखंड को धामों के विकास में केंद्र से नहीं होगी पैसे की कमी, त्रिवेन्द्र ने मांगे 200 करोड़

Chetan Gurung

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से बद्रीनाथ और केदारनाथ धाम में चल रहे विकास कार्यों की रिपोर्ट ली। उन्होंने ड्रोन के जरिये निर्माण कार्यों का जायजा लेते हुए कहा कि धामों के विकास में उत्तराखंड को केंद्र से पैसे की कमी नहीं होने दी जाएगी। धामों का निर्माण कार्य और विकास योजना आने वाले 100 सालों को ध्यान में रख कर किया जाए। रावत ने केदारनाथ विकास कार्यों की जानकारी दी तथा इसके लिए 200 करोड़ की मांग केंद्र से की।

CM Trivendra Singh Rawat and Senior Bureaucrate during VC with PM

उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये त्रिवेन्द्र से बात करने के साथ ही ड्रोन के जरिये केदारनाथ मंदिर परिसर, आदि गुरु शंकराचार्य की समाधि, सरस्वती घाट पर बने पल और आस्था, गुफाओं, मंदाकिनी नदी पर बन रहे पल, मंदाकिनी और सरस्वती नदी के संगम पर बन रहे घाटों का ही नजारा लिया।

PM Narendra Modi

मोदी ने कहा कि रामबाड़ा से केदारनाथ तक छोटे-छोटे हिस्सों को केदारनाथ की स्मृतियों से जोड़ा जाना चाहिए। यहाँ अध्यात्म से संबन्धित अनेक कार्य किए जा सकते हैं। इस तरफ ध्यान दिए जाने की जरूरत है। इससे श्रद्धालु केदारनाथ दर्शन के साथ ही इससे जुड़ी धार्मिक और पारंपरिक महत्व को भी भली-भांति जान सकेंगे।

पीएम ने कहा कि केदारनाथ के आसपास जो गुफाएँ बनाई जा रही हैं, वे आकर्षक हों तथा सुनियोजित ढंग से विकसित होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अभी केदारनाथ में निर्माण कार्यों को तेजी से किया जा सकता है। शीर्ष प्राथमिकता तय कर निर्माण कार्यों को पूरा किया जाए।

उन्होंने कहा कि भगवान बद्रीनाथ और केदारनाथ में विभिन्न कार्यों के लिए राज्य सरकार को केंद्र से हर मुमकिन मदद दी जाएगी। मुख्यमंत्री रावत ने केदारनाथ में चल रहे विकास कार्यो की जानकारी दी। उनकी समय सीमा भी बताई। मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह और ACS ओमप्रकाश भी वीडियो कॉन्फ्रेंस में मौजूद थे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

You cannot copy content of this page