चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की एक दिन की कोरोना तनख्वाह नहीं कटेगी

वर्चुअल रैली में CM ने किए कई ऐलान,केंद्र-PM की तारीफ की

Chetan Gurung

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने आंगनबाड़ी और आशा कार्यकत्रियों को तोहफा देते हुए उनके खाते में एक-एक हजार रूपए की सम्मान राशि डालने का ऐलान किया। इनकी संख्या 50 हजार से अधिक है। ये फैसला भी सुनाया कि कोविड-19 से जंग के लिए अब चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों और पर्यावरण मित्रों के वेतन से एक दिन के वेतन की कटौती नहीं की जाएगी।

रावत ने अल्मोड़ा विधानसभा क्षेत्र की वर्चुअल रैली में ये ऐलान किए। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल के पहले वर्ष में लिए गए निर्णयों की तारीफ की। उनको अभूतपूर्व करार दिया। उन्होंने कहा कि इस दौरान कश्मीर से धारा-370 हटाई गई। अयोध्या राम मंदिर विवाद का हल निकलवाया। जल्द ही भव्य राममंदिर का निर्माण होगा। वन नेशन वन राशन कार्ड को सम्भव बनाया। प्रधानमंत्री जी जब 2014 में पहली बार देश के प्रधानमंत्री बने तो उन्होंने डिजीटल इंडिया की परिकल्पना की। आज इसके परिणाम भी देखने को मिल रहे हैं।

त्रिवेन्द्र ने कहा कि आने वाले एक-डेढ़ वर्षों में उत्तराखण्ड  का हर गांव ऑप्टिकल फाईबर से जुड़ जाएगा।  भारत नेट के अंतर्गत भारत सरकार ने प्रदेश के लिए 2 हजार करोड़ रूपये मंजूर किए हैं। तीन तलाक पर रोक लगाई। अपनी उपलब्धि गिनाते हुए उन्होंने कहा कि हमने भ्रष्टाचार पर करारा प्रहार किया है। राज्य को माफिया से मुक्त किया है। किसी को नहीं बख्शा गया है। बहुतों को गिरफ्तार किया गया। जनभावनाओं का सम्मान करते हुए गैरसैण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की घोषणा की। इसकी अधिसूचना भी जारी कर दी गई है।

मुख्यमंत्री ने दावा किया कि सरकार ने अपने विजन डाक्यूमेंट में की गई 85 प्रतिशत घोषणाएं पूरी कर दी हैं। कोविड-19 में कार्यकर्ताओं की तारीफ भी की। प्रवासियों की सहायता का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि गरीबों को भोजन दिया तथा स्वास्थ्य सेवाओं को दुरूस्त किया। हमारे कोविड केयर सेंटरों में 18 हजार  बेड की क्षमता मौजूद है। अभी केवल 800 के करीब लोग इन सेंटर में हैं। कोविड से लड़ने के लिए धन की कोई कमी नहीं है। देश का पहला राज्य है उत्तराखण्ड, जहां पंचायतों को पैसा सीधे उनके अकाउंट में भेजा है।

अल्मोड़ा शहर के लिए सीवर लाईन स्वीकृत की है। कटारमल सर्किट विकसित कर रहे हैं। कसारदेवी को आध्यात्मिक जोन के रूप में विकसित कर रहे हैं। अल्मोड़ा बस अड्डा का निर्माण कार्य प्रगति पर है। फूड क्राफ्ट इंस्टीट्यूट का काम चल रहा है।

उन्होंने काया कल्प योजना के अंतर्गत जिला चिकित्सालय अल्मोड़ा को प्रदेश में प्रथम स्थान मिलने का विशेष तौर पर जिक्र किया। ये भी कहा कि हरेला पर्व पर राजकीय अवकाश घोषित किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 25 जून 1977 को देश में आपातकाल लगाया गया था। हजारों लोगों को जेल में बंद कर दिया गया। अत्याचार किए गए। आज कांग्रेस बूढ़े बैल की तरह हो गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here