शासन के आदेश पर डालनवाला पुलिस स्टेशन में मुकदमा दर्ज

Chetan Gurung

एक हैरत अंगेज़ मामले में परिवहन सचिव शैलेश बगौली के फर्जी दस्तखत से देहरादून के RTO दिनेश चंद पठोई और उपायुक्त सुधांशु गर्ग के तबादले का आदेश जारी कर दिया गया। शासन को जब इसकी जानकारी मिली तो खलबली मच गई। सचिव बगौली के आदेश पर इस साजिश-शरारत की जांच के लिए डालनवाला पुलिस स्टेशन में मुकदमा दर्ज करा दिया गया है।

RTO के फर्जी तबादला आदेश ने शासन में भी हड़कंप मचा दिया

उत्तराखंड गठन के बाद से इस तरह का ये पहला मामला सामने आया है। आदेश 19 जून को जारी हुआ दिखाया गया है। आदेश पत्र हूबहू वैसा ही है, जैसा शासन जारी करता है। इसको देख के ये माना जा सकता है कि इसकी साजिश के पीछे महकमे के ही किसी खुराफाती दिमाग का हाथ है।

परिवहन सचिव शैलेश बगौली ने फर्जी RTO तबादला आदेश पर पुलिस में मुकदमा दर्ज कराने के आदेश दिए।

सचिव के दस्तखत एकदम वैसे ही हैं जैसे बगौली करते हैं। फर्जी आदेश के मुताबिक पठोई का तबादला सहस्त्रधारा में कुल्हान स्थित परिवहन उपायुक्त के पद पर किया गया है। उनकी जगह परिवहन उपायुक्त सुधांशु गर्ग को देहरादून का RTO भेजा गया है। ये नहीं पता चला ही कि इस आदेश को ले के कोई शख्स पठोई और गर्ग के पास निजी तौर पर पहुंचा था या आदेश की कॉपी डाक से मिली।

बगौली ने `Newsspace’ से कहा, `तबादला सूची एकदम असली की तरह है। इस खुराफात के पीछे कौन है और उसकी मंशा क्या है, ये तो पुलिस जांच से ही पता चल सकेगा। अभी कुछ कहा नहीं जा सकता है कि इसके पीछे महकमे का ही कोई शख्स जिम्मेदार है या फिर अन्य’। उन्होंने बताया कि उनके पास ये आदेश आज RTO पठोई ने भेजा। वह पसोपेश में थे कि क्या वाकई उनका तबादला अचानक हो गया है। पुष्टि के लिए वह जब सचिव से ऑर्डर की कॉपी के साथ मिले तब इस साजिश का खुलासा हुआ।

फर्जी आदेश और अपने दस्तखत देख के खुद परिवहन सचिव बुरी तरह चौंक गए। उन्होंने तत्काल दोनों संबन्धित अफसरों (पठोई-गर्ग) को आदेश के फर्जी होने की बात बताई। इसके साथ ही पुलिस में इस फर्जीवाड़े के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के आदेश भी दे दिए। शाम तक मुकदमा पुलिस ने दर्ज कर लिया। बगौली ने अंदेशा जताया कि उनके दस्तखत स्कैन किए हुए हैं।  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here