555 मौतें:डबलिंग रेट (33.81) हुआ बेहतर:मैदान हो या पहाड़-कोरोना ही कोरोना

Chetan Gurung

मातृ शक्ति के लिए शुक्रवार काला साबित हुआ। कुल 13 कोरोना मरीजों ने जिंदगी से नाता तोड़ा। इनमें से 9 महिलाएं थीं। मौतों का आंकड़ा बढ़ के राज्य में 555 हो गया। मैदान हो या पहाड़ का कोना, कोरोना ने हर जगह अड्डा जमा सा लिया है। 928 केस मिलने से अब देवभूमि में महामारी के शिकारों का आंकड़ा 45332 हो चुका है।

देहरादून कोरोना मरीजों की तादाद के मामले में सबसे आगे बने रहने के लिए जबर्दस्त स्टेमिना दिखाए जा रहा है। 12044 पॉज़िटिव के साथ उसने सभी जिलों को बहुत पीछे छोड़ दिया है। शुक्रवार को 203 केस मिले। राज्य में ये सबसे ज्यादा रहा। 87 केसों के साथ हरिद्वार ने सुधारात्मक प्रदर्शन जारी रखा। वह दूसरे नंबर (8729 केस) पर है।  

117 केसों के साथ तीसरे नंबर (कुल-8089 केस) पर चल रहे उधम सिंह नगर ने 8000 हजार की बाधा तोड़ डाली। नैनीताल (5618 केस) में 173 केस मिलने से एक बार फिर खलबली का आलम रहा। सबसे ज्यादा चिंता में प्रशासन और सरकार को पौड़ी ने डाल दिया। अब तक तकरीबन संयमित प्रदर्शन करने वाले इस प्रमुख पहाड़ी जिले में 107 केस अचानक सामने आ जाने से चिंता का ज्वार-भाटा उठ खड़ा हुआ है। अब तक 1729 केस ही यहाँ मिले थे।

3662 के साथ देहरादून एक्टिव केसों में भी शीर्ष पर है। बुजुर्ग-वृद्ध महिला मरीजों पर कोरोना का हमला जानलेवा साबित हुआ। जिन महिला मरीजों की मौत हुई उनमें अधिकांश की उम्र अधिक (61-64-62-63-74-49-77-70-54 वर्ष) थी। अच्छी बात ये रही कि लंबे अरसे बाद पॉज़िटिव मिलने के तादाद से ज्यादा ठीक होने वालों की रही। डबलिंग रेट में भी सुधार हुआ। ये 33.81 हो गया है। राज्य भर में कुल सैंपल का 7.16 फीसदी ही पॉज़िटिव निकले। 33642 मरीज ठीक हो चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here