केंद्रीय गृह मंत्रालय ने जारी की अनलॉक-5 की गाइडलाइंस:15 अक्टूबर के बाद खुलने हैं स्कूल-कोचिंग सेंटर्स

Chetan Gurung

सिनेमा-मल्टीप्लेक्स-थिएटर्स केंद्र सरकार ने अनलॉक-5 में स्कूल तो खोल दिए लेकिन हैरत की बात है कि इसके लिए अपनी तरफ से कोई अलग गाइड लाइंस जारी नहीं की। खास तौर पर ये देखते हुए कि सिनेमा हॉल-थिएटर्स-मल्टीप्लेक्स के लिए बंदिश लगा दी है कि वे 50 फीसदी दर्शक क्षमता के साथ ही खुलेंगे। CM त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने `News Space’ से इस पर कहा-स्कूलों को खोलने के बारे में शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे-मुख्य सचिव ओमप्रकाश को निर्देश दिए गए हैं कि वे आपस में बैठ के तय करें कि कैसे और क्या किया जाए’।

बुधवार रात को जारी अनलॉक-5 से जुड़ी गाइडलाइंस में 15 अक्टूबर से शर्तों के साथ सिनेमा हॉल-थिएटर-मल्टीप्लेक्स को खोलने की इजाजत दे दी गई है। कंटेनमेंट जोन्स में 31 अक्टूबर तक सख्त लॉकडाउन लागू रहेगा। सवाल स्कूलों और कोचिंग सेंटरों को चरणबद्ध तरीके से खोलने को लेकर है। केंद्र की ताजी गाइड लाइंस के अनुसार राज्य सरकार 15 अक्टूबर के बाद इस पर फैसला ले सकती है।

इसका मतलब ये है कि राज्य सरकारें चाहें तो अपनी तरफ से कोई भी व्यवस्था स्कूलों-कोचिंग सेंटर के लिए अपना के उनको खोल सकती हैं। केंद्र को उस पर कोई एतराज नहीं होगा। केंद्र ने गाइडलाइंस में कहा है कि सिनेमा हॉलों, थिएटरों, मल्टीप्लेक्सों को 50 प्रतिशत सीटिंग कैपेसिटी के साथ खोलने की मंजूरी होगी। यानी जितनी दर्शक क्षमता है, उसके आधे की इजाजत है। इसे लेकर केंद्र की तरफ से स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर जारी होगा।

शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे (ऊपर) और CS ओमप्रकाश (नीचे) स्कूल खोलने की गाइड लाइंस तय करेंगे

सिनेमा-थिएटर्स जैसी व्यवस्था केंद्र सरकार स्कूलों-कोचिंग सेंटर के लिए भी अपनी तरफ से कर सकती थी। अगर थियेटर-सिनेमा हाल-मल्टीप्लेक्स से कोरोना फैल सकता है तो स्कूल-कोचिंग सेंटरों में बच्चों को बैठने के लिए और कम जगह मिलती है। उनकी कुर्सियाँ अधिक करीब-चिपकी होती हैं। कम उम्र के बच्चों को कोरोना फैलने की आशंका अधिक रहती है। पूरी क्षमता के साथ स्कूल खोलने का फैसला बच्चों की जान-स्वास्थ्य के साथ घोर खिलवाड़ हो सकता है। इससे अभिभावक सहमे-फिक्रमंद दिख रहे हैं।

इस मुद्दे पर पूछा गया तो मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने `News Space’ से कहा कि राज्य सरकार इस मामले में संवेदनशील है। वह देखेगी कि स्कूलों-कोचिंग सेंटरों को खोलने के लिए अधिक बेहतर और सुरक्षित ढंग से क्या व्यवस्था की जा सकती है। ये सुनिश्चित किया जाएगा कि पढ़ाई सुव्यवस्थित ढंग से चले। बच्चों-कर्मचारियों-शिक्षकों को कोरोना फैलने का खौफ-आशंका भी न रहे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षा मंत्री-मुख्य सचिव इस बारे में साथ बैठ के राज्य सरकार की गाइडलाइंस तैयार करेंगे। इसके बाद ही स्कूलों-कोचिंग सेंटरों को खोलने और उनके तरीकों पर फैसला होगा। दोनों को इस बाबत उन्होंने निर्देश दे दिए हैं। वे जल्द ही इस मामले में शिक्षा सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम को भी साथ बिठा के राज्य की गाइड लाइंस स्कूलों के लिए तय करेंगे। इस बारे में चाहे तो वे स्कूलों से भी राय ले सकते हैं। इसके लिए अभिभावकों की सहमति-राय भी जरूरी तौर पर लेने की व्यवस्था केंद्र ने की है।

अनलॉक-5 में कंटेनमेंट जोन्स से बाहर स्थित एंटरटेनमेंट पार्कों और उसी तरह की दूसरी जगहों को भी 15 अक्टूबर से खोलने की इजाजत दे दी गई है। ये भी तय किया गया है कि जिन कमर्शियल फ्लाइट्स को गृह मंत्रालय की तरफ से इजाजत मिली हुई है, उन्हें छोड़कर इंटरनेशनल कमर्शियल फ्लाइटों पर रोक जारी रहेगी।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here