CM त्रिवेन्द्र का ऐलान-नियमित रूप से हर साल होगा आयोजन

22 तक कई साहसिक खेलों के रोमांच का लुत्फ लेंगे दर्शक

Chetan Gurung

पौड़ी के बिलखेत में प्रथम नयार घाटी एडवेंचर फेस्टिवल का आयोजन पर्यटन प्रोत्साहन और क्षेत्रीय आर्थिकी के लिहाज से बेहद अहम साबित हो सकता है। CM त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने गुरुवार को इस समारोह का उद्घाटन किया। ये उम्मीद बांधने में हर्ज नहीं कि मेहनत और दूर दृष्टि के साथ काम किया जाए तो आने वाले सालों में देश के साथ ही दुनिया के नक्शे में ये आयोजन धूम मचा सकता है। उत्साही DM धिराज सिंह गर्ब्याल ने इस आयोजन को कुछ देवभूमि की माटी से जुड़े जोशीले-दृढ़ संकल्प लोगों के सहयोग से अंजाम दिया है।

राष्ट्रीय पैराग्लाइडिंग एक्यूरेसी प्रतियोगिता शुरू होने से इस आयोजन और गुमनाम से बिलखेत को भी अहमियत मिलती रहेगी, ये तय है। साहसिक खेलों के रोमांच को लोग किस हद तक चाहते हैं, इसकी मिसाल पड़ोसी देश नेपाल है। जो सिर्फ पर्यटन और खास तौर पर साहसिक खेलों व इसके रोमांच के बूते खड़ा है। अर्थव्यवस्था का सबसे मजबूत स्तम्भ नेपाल में पर्यटन और साहसिक खेल ही है। उत्तराखंड की भौगोलिक स्थिति और कुदरती खूबसूरती नेपाल से कतई इतर नहीं है। ऐसे में नयार घाटी Adventure Festival देवभूमि के लिए वरदान साबित हो सकता है।

DM Dhiraj Singh Garbyal

इसके उद्घाटन के अवसर पर मुख्यमंत्री ने 26.83 करोड़ रूपये की कल्जीखाल विकासखण्ड की पेयजल योजना का लोकार्पण भी किया। योजना का लाभ 59 राजस्व ग्रामों, 19 ग्राम पंचायतों एवं 68 बस्तियों को मिलेगा। इसका श्रोत नयार नदी है। मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि नयार घाटी में पैराग्लाइडिंग का प्रशिक्षण केन्द्र खोला जायेगा। इसके लिए उन्होंने जिलाधिकारी को जमीन तलाशने के निर्देश दिए। नयार घाटी एडवेंचर फेस्टिवल का आयोजन हर साल करने और बिलखेत में स्कूल के सौन्दर्यीकरण का ऐलान भी किया।

19 से 22 नवम्बर तक इस फेस्टिवल में अनेक कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। पैराग्लाइंडिंग, 170 किमी की माउंटेन बाइकिंग ट्रेल रनिंग स्पर्धा एवं एंग्लिंग प्रतियोगिता का लुत्फ और रोमांच से लोग इस दौरान दो-चार हो सकेंगे। कलेक्टर धिराज को जोशीले और रचनात्मक कार्यों में दिलचस्पी के लिए जाना जाता है। नयार फेस्टिवल भी पूरी तरह उनके ही दिमाग और मेहनत की उपज है। इसमें कई राज्यों के प्रतियोगियों को अपना हुनर दिखाने का मौका मिल रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र संघ की रिपोर्ट के अनुसार पर्यटन के क्षेत्र में दुनिया में सबसे अधिक संभावनाएं एडवेंचर के क्षेत्र में है, और इसमें रोजगार की भी अपार संभावनाएं है। उत्तराखण्ड इस मामले में भाग्यशाली है कि उसके पास एक से एक साहसिक खेलों की संभावनाओं वाली जगह-घाटियां हैं।

त्रिवेन्द्र ने कहा कि उत्तराखण्ड सरकार पर्यटन, फिल्म, ग्रामीण क्षेत्रों के विकास एवं स्वास्थ्य सुविधाओं पर खास ध्यान दे रही है। प्रत्येक जिले में थीम बेस्ड डेस्टिनेशन विकसित किए जा रहे हैं। कृषि मंत्री सुबोध उनियाल ने कृषि क्षेत्र में उपलब्धियों के बारे में जानकारी दी। इस अवसर पर उच्च शिक्षा एवं सहकारिता राज्य मंत्री धन सिंह रावत, सांसद तीरथ सिंह रावत, विधायक मुकेश कोली, जिलाधिकारी धिराज गब्र्याल, एसएसपी रेणुका देवी भी मौजूद थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here