IDPL की 833 एकड़ जमीन मिलेगी वापिस:बनेंगे इंटरनेशनल वेलनेस-कन्वेन्शन सेंटर

Related Articles

सूर्यधार झील-इठारना मंदिर में निर्माण कार्यों का सचिव जावलकर ने लिया जायजा

Chetan Gurung

ऋषिकेश में IDPL को राज्य सरकार से मिली 833 एकड़ जमीन अगले साल लीज खत्म होने पर वापिस मिल जाएगी। इस पर पर्यटन विकास के नजरिए से अंतर्राष्ट्रीय स्तर के वेलनेस और कन्वेन्शन सेंटर बनेंगे। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए सूर्यधार झील-इठारना मंदिर में चल रहे निर्माण कार्यों का जायजा छुट्टी के बावजूद पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर ने मौके पर पहुंच के लिया।  

सचिव दिलीप ने साहसिक पर्यटन की संभावनाओं को तलाशने के मकसद से  मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत की विधानसभा डोईवाला  के अंतर्गत सूर्यधार झील तथा इठारना  मंदिर में चल रहे निर्माण कार्यों के साथ ही आईडीपीएल की भूमि का निरीक्षण भी किया। आईडीपीएल की जमीन वन विभाग से लीज पर दी गई थी। लीज 2021 में खत्म हो रही है। सचिव ने बताया कि सरकार ने ये वन भूमि पर्यटन विभाग को हस्तांतरित करने का निर्णय लिया गया है।

अंतरराष्ट्रीय वैलनेस एवं कन्वेंशन सेंटर के निर्माण के लिए कंपनी अर्नेस्ट एंड यंग इसका मास्टर प्लान तैयार कर रहा है। सूर्यधार झील थानों-ऋषिकेश मार्ग पर  निर्मित कृत्रिम झील है। इठारना में एक अन्य कृत्रिम झील का निर्माण किया जा रहा है। इसके लिए लगभग 25 लाख रुपए की धनराशि जारी की गई है। क्षेत्र में साहसिक पर्यटन की गतिविधियों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से इठारना मंदिर तक जाने वाले पुराने पैदल मार्ग को ट्रैक के रूप में विकसित किया जा सकता है।

पर्यटन विभाग की इसे एक साहसिक पर्यटन गंतव्य के रूप में विकसित करने की योजना है। दिलीप ने बताया कि झील के पास ही जाखन नदी पर बने बैराज के ऊपर एक ग्लास ब्रिज के निर्माण की भी योजना है। इसकी फीजिबिलिटी की जांच  के बाद निजी कंपनियों को इसके लिए आमंत्रित किया जाएगा। जल्द ही इस बाबत अभिव्यक्तिओं की अभिरुचि (ईओआई) जारी की जाएगी।

राज्य के दूरस्थ ग्रामीण स्थलों को साहसिक पर्यटन गंतव्य के रूप में विकसित करने की योजना पर तेजी से कार्य चल रहा है। इसके अंतर्गत ट्रैकिंग ट्रैक्शन ग्रोथ सेंटर योजना संचालित की गई है। इस योजना में चिन्हित ट्रेक रूटों के निकट स्थित  गांवों में नए होम स्टे निर्माण तथा पुराने ग्रामीण मकानों के पुनरुद्धार-शौचालय निर्माण कार्यों के लिए सीधी आर्थिक मदद प्रदान की जा रही है।

More on this topic

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisment

Popular stories

You cannot copy content of this page