सुरक्षित भूमि तलाश ली है:Dr घनशाला

विवि टीम ने जोशीमठ आपदा क्षेत्र का लिया जायजा

Chetan Gurung

डॉ.कमल घनशाला

उच्च और तकनीकी शिक्षा के प्रमुख केंद्र ग्राफिक एरा ने चमोली के रिणी गांव की आपदा में घर-बार लुटा बैठी सोणी देवी को मकान बना के देने का फैसला किया है। विवि समूह (ग्राफिक एरा) के विशेषज्ञों की टीम ने आपदा प्रभावित इलाके का दौरा करने के बाद सोणी के लिए घर बनाने की योजना तैयार कर ली है।

ग्राफिक एरा एजुकेशनल ग्रुप के अध्यक्ष डॉ. कमल घनशाला ने कहा कि पहाड़ से अपने सरोकारों और माटी की महक से छात्र-छात्राओं को जोड़ने के लिए ग्राफिक एरा आपदा की हर घड़ी में आगे बढ़कर मदद की पहल करता है। उन्होंने कहा कि आपदा से बेघर हुए परिवार की मदद के लिए सरकार और जिला प्रशासन के साथ वार्ता के बाद सोणी देवी का घर बनाने के लिए एक सुरक्षित स्थान पर भूमि का चयन कर लिया गया है। 

डॉ. घनशाला ने कहा कि आपदा की हर घड़ी में मदद के लिए हाथ बढ़ाकर ग्राफिक एरा अपने छात्र-छात्राओं के जरिये नई पीढ़ी को लोगों के दुख-दर्द से जुड़ने और सहायता करने के संस्कार से जोड़ रहा है। इसी कारण कुशल पेशेवरों के रूप में दुनिया भर में कामयाबी की पताका फहराने वाले ग्राफिक एरा के पूर्व छात्र मानवीय गुणों से लबरेज बेहतरीन इंसान भी साबित हो रहे हैं।

ग्राफिक एरा के विशेषज्ञों की टीम ने रिणी गांव का दौरा करने के बाद परसारी गांव में उपलब्ध भूमि को पुनर्वास के लिए सुरक्षित पाया है। सोणी देवी की बेटी मंजू और राजस्व विभाग के लोगों के साथ परसारी गांव की भूमि का निरीक्षण करके उसकी उपलब्धता के संबंध में कार्यवाही शुरू कर दी गई है। इसके तुरंत बाद वहां मकान बनाने का कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

इस टीम ने जोशीमठ और तपोवन में बनाये गए आपदा नियंत्रण कक्ष में चमोली की जिलाधिकारी स्वाति भदोरिया के साथ आपदा पीड़ित के लिए मकान बनाने के संबंध में वार्ता की। इस दौरान जोशीमठ की एसडीएम कुमकुम जोशी भी मौजूद रहीं। ग्राफिक एरा की इस टीम में निदेशक (इन्फ्रा), प्रोफेसर (जर्नलिज्म) डॉ. सुभाष गुप्ता और ग्राफिक एरा के स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आर्किटेक्चर की निदेशक श्रीपर्णा शाह भी शामिल थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here