खेलों में शीर्ष 5 राज्यों में शामिल हों उत्तराखंड:बजट की फिक्र न करें:प्रतिभाओं को तलाश के निखारें:SAI के समान भत्ता-किट दें

क्रिकेट में धांधली-आरोपों की जांच करेंगे खेल सचिव:खेल मंत्री अरविंद   

Chetan Gurung

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने आज खेल महकमे की समीक्षा के दौरान कहा कि उत्तराखंड को आवंटित 38वें राष्ट्रीय खेलों को शानदार ढंग से आयोजित करने के लिए वक्त पर अवस्थापना सुविधाओं का विकास करें। उनको समयबद्ध तरीके से पूर्ण कर लिया जाए। बजट की फिक्र न कर प्रतिभाओं को तलाश के निखारें। उत्तराखंड को देश के 5 शीर्ष खेल राज्यों में शामिल करने का लक्ष्य रखें। खिलाड़ियों को खुराक भत्ता और किट भी भारतीय खेल प्राधिकरण के समान देने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने सचिवालय में समीक्षा बैठक में कहा कि राज्य सरकार खेलों के विकास एवं खिलाड़ियों को हर सम्भव सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए संकल्पबद्ध है। खेल योजनाओं को सफलतापूर्वक संचालित करने के लिए बुनियादी सुविधाओं के विकास पर फोकस किया जाए। योजनाबद्ध तरीके से खेल सुविधाओं को विकसित कर खिलाड़ियों को बेहतर वातावरण देने के प्रयास निरंतर जारी रखे जाएँ। 

उन्होंने कहा कि प्रदेश की खेल नीति को प्रभावी रूप से संचालित करने पर ज़ोर दिया। प्रदेश को खेलों के मानचित्र में देश के प्रथम 5 राज्यों में स्थापित करने के लिए बजट की चिंता न कर बेहतर प्रतिभाओं को तराशने के निर्देश भी दिए। सचिव (खेल) बृजेश कुमार संत ने बताया कि उत्तराखण्ड खेल नीति-2020 तैयार की गई है। 18 जून, 2018 को उत्तराखण्ड को बीसीसीआई मान्यता प्रदान कर चुका है।

यूथ ओलम्पिक खेल में लक्ष्य सेन (बैडमिन्टन) एवं सूरज पंवार (एथलेटिक्स) रजत पदक जीतने में सफल रहे हैं। खेल मंत्री अरविन्द पाण्डेय, अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी उपस्थित बैठक में थीं। पत्रकारों से बातचीत में खेल मंत्री ने कहा कि क्रिकेट में धांधलियों-और सीएयू पर लगे तमाम आरोपों पर खेल सचिव जांच करेंगे। वह क्रिकेटरों के साथ अन्याय नहीं होने देंगे। खुद उन्होंने उत्तराखंड को BCCI की मान्यता दिलाने के लिए विनोद राय की अध्यक्षता वाली समिति से मुलाक़ात की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here