सरकार ने शासन-जिलों के अफसरों को दिए पालन कराने के आदेश:आज PM की भी चुनावी जनसभा हुईं  

Chetan Gurung

सरकार ने आज ताजा फरमान जारी कर शादियों में 200 से लोगों तक की ही उपस्थिति का प्रतिबंध लगा दिया। ये फरमान इसलिए वाकई हैरान कर रहा कि आज ही हरिद्वार में शाही स्नान में 28 लाख लोग एक साथ थे। पश्चिम बंगाल में PM लाखों लोगों को चुनावी जनसभा में संबोधित कर रहे थे। सरकार के नए फरमान से शादियों की रौनक फीकी पड़नी तय है। शादी वाले घरों के लिए तमाम दिक्कतें भी तय हैं।

कुम्भ स्नान में 28 लाख शरीक हुए। कोरोना का खतरा नहीं। शादी में 200 से ज्यादा होने पर खतरा।

मुख्य सचिव ओमप्रकाश की तरफ से जारी आदेश में कहा गया है कि कोरोना के मद्देनजर सिर्फ मेहमानों की संख्या सीमित ही सीमित नहीं करनी बल्कि सोशल डिस्टेन्सिंग और मास्क के इस्तेमाल को भी सुनिश्चित कराना है। जो इसका उल्लंघन करेंगे उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। मतलब शादी वाले परिवार और मेहमानों को कानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है।

सरकार ने ये आदेश जारी करते वक्त बेशक कोरोना के बढ़ते प्रकोप को ध्यान में रखा होगा और लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की सोची होगी। ये आदेश इसलिए विडम्बना से कम नहीं लग रहे कि हरिद्वार में कुम्भ चल रहा है। आज तमाम अखाड़ों ने शाही स्नान किया। नेपाल के पूर्व महाराजधिराज ज्ञानेन्द्र बीर बिक्रम शाहदेव ने भी निरंजनी अखाड़े के साथ इसमें शिरकत की। CM तीरथ सिंह रावत ने पत्रकारों से बातचीत में दावा किया कि आज 28 लाख लोगों ने आज स्नान किया। रात तक 35 लाख के स्नान करने की उम्मीद सरकार को है।

कुछ फीसदी लोगों को छोड़ दिया जाए तो किसी के चेहरे पर मास्क नहीं था। सोशल डिस्टेन्सिंग तो नामुमकिन थी और सब अखाड़े के साधू-संत-सन्यासी तथा आम श्रद्धालु बिना किसी सोशल डिस्टेन्सिंग के स्नान में शरीक हुए। आपदा कानून के मुताबिक हालांकि इतने लोग एक साथ इकट्ठे नहीं हो सकते हैं। पश्चिम बंगाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कई चुनावी जनसभाओं को संबोधित किया। शायद सरकार को लगता है इन सबसे कोरोना का खतरा नहीं होता है। सिर्फ शादी में भीड़ होने पर कोरोना वाइरस सक्रिय होता है।

सरकार के ताजा आदेश से शादी वाले घर-परिवारों के माथे पर पसीने की बूंद फिर उभर आई है। पहले ही रात का कर्फ़्यू लगने से वे परेशान हैं। उनको शादी 10 बजे रात से पहले खत्म करना होगा। वे शादी का निमंत्रण कार्ड काफी पहले बाँट चुके हैं। शायद ही कोई शादी ऐसी होगी जिसमें कम से कम पाँच-छह सौ मेहमान न बुलाए गए हों। इसी संख्या के हिसाब से वेडिंग पॉइंट-होटल-टैंट हाउस-कैटरिंग व्यवस्था बुक की जा चुकी है। एडवांस दिए जा चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here