Covid-19::Positive केस नीचे (आज 3719) आए पर मौतें (आज 136) नहीं थम रहीं

0
69

सुशीला तिवारी (18)-हिमालयन (18)-Base अस्पताल भूपतवाला (16) में फिर कई जानें गईं:पुरानी 87 मौतें और सामने आई

4 घंटे देरी से जारी हुआ सरकार का Bulletine:उत्तराखंड में मौतों का आंकड़ा 5034 पर पहुंचा  

Chetan Gurung

कई हफ्तों बाद आज कोरोना पॉज़िटिव केस 4 हजार से नीचे (3719) आए लेकिन मरीजों की मौतों का सिलसिला खास नीचे नहीं आया। सोमवार को भी 136 मरीजों ने दम तोड़ दिया। राज्य में अब तक 5034 मरीज इस महामारी के खिलाफ जिंदगी की जंग हार चुके हैं। राहत की बात देहरादून में पॉज़िटिव केस 1 हजार से नीचे (752) आना रहा। हैरत की बात भी जान लें। कोरोना का State Bulletin आज पूरे 4 घंटे देर से रात 10 बजे जारी किया गया। इसकी वजह भी नहीं बताई गई। 87 पुरानी दाबी गई मौतें भी आज सामने आई।

इस पर ताज्जुब होना स्वभाविक है कि जब कोरोना के केस लगातार नीचे आ रहे हैं तो मौतों का आंकड़ा क्यों इतना ज्यादा बना हुआ है। इसकी वजह कहीं एक बार फिर अस्पतालों में पहले हुई मौतों का आंकड़ा अब सामने आना तो नहीं है? सबसे ज्यादा 56 कोरोना मृत्यु के मामले देहरादून में आए। यहाँ हिमालयन मेडिकल कॉलेज में 16, Aiims ऋषिकेश में 12, महंत इंद्रेश मेडिकल कॉलेज में 11 मौतें हुईं।

सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी में सबसे ज्यादा 18, हरिद्वार में भूपतवाला बेस अस्पताल में 16,उधम सिंह नगर में एलडी भट्ट अस्पताल में 9 कोरोना मरीजों ने आखिरी सांस ली। आज सबसे कम (46) पॉज़िटिव केस बागेश्वर में आए। नैनीताल में भी सिर्फ 106 केस मिले। राज्य में 78608 एक्टिव केस हैं। 3647 मरीज आज ठीक हुए। सैंपल Positivity दर 6.78 प्रतिशत और रिकवरी प्रतिशत 69.48 है।   

सरकार ने आज उधम सिंह नगर में पूर्व में हुई 72 और हरिद्वार में हुई 15 मौतों को भी रेकॉर्ड में शामिल किया। हरिद्वार के BHEL अस्पताल में 29 अप्रैल से 12 मई तक 15 मौतें हुई थीं, जो अभी तक सामने नहीं आई थीं। उधम सिंह नगर में JLN-DH रुद्रपुर में 65 तथा नव्या अस्पताल में 7 कोरोना मरीजों की मौत भी सामने आई। 28 अप्रैल से 7 मई तक हुई मौतों को JLN-DH ने सरकार के दबाव के बाद उजागर किया। सरकार ने मौतें छिपाने वाले अस्पतालों के CMS-MS के खिलाफ कार्रवाई की चेतावनी दी है। इस चेतावनी के बाद ही ये पुराने दाबे गए मौत से जुड़े मामले सामने आए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here