कोरोना की आत्मा का भी फिलहाल देवभूमि में खात्मा!118 केस:3 Deaths

0
57

2739 एक्टिव केस:Sampling में कुछ सुधार

Black Fungus के 6 नए केस:5 और Deaths:Total-478 केस:88 Deaths  

तीसरी लहर को रोकने के लिए असली ज़िम्मेदारी अवाम की:लापरवाह न बनें

Chetan Gurung

उत्तराखंड से कोरोना की आत्मा का भी तकरीबन खात्मा दिखाई दे रहा। आज सिर्फ 118 नए केस मिले, जो दूसरी लहर में अब तक का सबसे छोटा आंकड़ा है। मौतों (3) पर भी तगड़ी लगाम लगी। Sampling में सुधार दिखा। Black Fungus से जरूर 5 और मरीजों ने दम तोड़ दिए। अब तक 478 में से 88 की मौत इस महामारी से हो चुकी है।

सबसे ज्यादा नए केस देहरादून (49) में पाए गए लेकिन 18 लाख की आबादी के लिहाज से ये काफी छोटी संख्या कही जा सकती है। चिंता की बात राजधानी में एक्टिव केसों (644) का लगातार फिर से बढ़ते जाना है। अन्य जिलों में काफी कमी आई है। 10 जिलों में आज नए केस Single Digit में मिले। पौड़ी (11) और नैनीताल (10) ही देहरादून के अलावा अन्य जिले रहे, जहां दो अंकों में केस मिले।

राज्य में अभी तक 7074 मौतें कोरोना से हो चुकी हैं। आज 250 मरीज ठीक हुए। रिकवरी प्रतिशत 95.40 है, जो संतोषजनक कहा जा सकता है। 339245 केस अब तक उत्तराखंड में मिले हैं। Black Fungus ने पहली महामारी की तरह जालिमाना अंदाज अपना लिया लग रहा। आज Aiims ऋषिकेश में 4 मरीजों की मौत हो गई। इस महामारी से हो रही मौतों की दर बहुत अधिक होना बेहद चिंताजनक माना जा सकता है।

Aiims में 315 मरीज भर्ती हैं लेकिन सबसे ज्यादा 58 मरीजों ने अंतिम सांस भी वहीं ली। सिर्फ 32 मरीज ही अभी तक वहाँ से ठीक हो के घर गए हैं। हिमालयन मेडिकल कॉलेज में 45, महंत इंद्रेश में 30 और दून मेडिकल कॉलेज में 23 मरीज इस नई महामारी का ईलाज करा रहे हैं। खास बात ये है कि Black Fungus के 226 केस दूसरे राज्यों के मरीजों से जुड़े हैं। 36 मौतें अन्य राज्यों के मरीजों की हुई हैं।

रिपोर्ट से जाहिर हो रहा कि सरकार की कोशिशें कोरोना को ले के कामयाब हो रहीं। केस और मौतों में जबर्दस्त कमी आई है, लेकिन कोरोना की तीसरी लहर को रोकने के लिए अवाम को ही अहम भूमिका निभानी होगी। सिर्फ सरकार की कोशिशें इसके लिए काफी नहीं होंगी। बाजार-शहर में फालतू और गैर जरूरी रूप से घूमने वालों को भी खुद पर लगाम लगानी होगी। ऐसा नहीं हुआ तो दूसरों के साथ ही खुद की जान के लिए भी वे खतरा पैदा करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here