फरमान::हर हाल में रोकें तीसरी लहर का कहर::CM

0
36

राज्य भर की व्यवस्थाओं का लिया तीरथ ने लिया जायजा:सुनाए तमाम फरमान   

Chetan Gurung

ये तय नहीं है कि देश और राज्य में कोरोना की तीसरी लहर कब आएगी या आएगी भी या नहीं लेकिन इसके कहर को रोकने के लिए तीरथ सरकार ने कमर कसी हुई है। दूसरी लहर में काल का जाल बिछने के बाद सबक लेते हुए मुख्यमंत्री ने आज राज्य के सभी जिलों की तैयारियों का जायजा लेने के साथ ही व्यवस्थाओं को पुख्ता करने के संबंध में तमाम फरमान सुनाए।  

मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को सचिवालय में कोविड-19 महामारी के नियंत्रण एवं कोविड वैक्सीनेशन की प्रगति की जानकारी ली। वीडियो कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा कि सम्भावित तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए सभी व्यवस्थाएं पूर्ण होनी चाहिए। अगर कोरोना तीसरी बार धमकता है तो ऐसा नहीं होना चाहिए कि लोगों को फिर ईलाज और व्यवस्थाओं के लिए दौड़-धूप करनी पड़े।

उन्होंने अस्पतालों में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन बेड, आईसीयू बेड की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोविड की तीसरी लहर से पहले तैयारी का जो समय मिला है, उसका भरपूर इस्तेमाल चिकित्सा व्यवस्थाओं को मजबूत करने के लिए किया जाए। मॉनसून और बारिश मद्देनजर आपदा राहत के लिए भी संवेदनशील स्थानों के बीच एम्बुलेंस की व्यवस्था की जाए।  सीएचसी स्तर पर भी कोविड केयर सेंटर बनाए जाएं। देहरादून एवं हल्द्वानी में ऑक्सीजन बेड, आईसीयू बेड और वेंटिलेटर की सुविधा को और बढ़ाना होगा। देहरादून और हल्द्वानी में कोविड के पीक पर मरीजों की संख्या में तेजी से वृद्धि होती है। 

मुख्यमंत्री ने बच्चों के अनुरूप दवाइयों-मास्क एवं उपकरणों की व्यवस्था सुनिश्चित करने पर बल दिया। आशाओं के माध्यम से सप्लीमेंट न्यूट्रीशन का वितरण शीघ्र सुनिश्चित करने को कहा। प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में भी टेस्टिंग की व्यवस्था करने आर माईक्रो कन्टेनमेंट जोन एवं कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग को लगातार जारी रखने के निर्देश दिए। वैक्सीनेशन को और अधिक गति देने के लिए लगातार लोगों को प्रेरित करने की बात भी बोली।  दिव्यांगों एवं बुजुर्गों के लिए जिलाधिकारियों को अलग कैंप लगवाकर टीकाकरण करने को कहा। लोकल सेलीब्रिटीज एवं महानुभावों के सहयोग से कोरोना जागरूकता कार्यक्रम संचालित पर भी बल दिया।

मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने भविष्य में लॉकडाउन खुलने पर भीड़ बढ़ने की सम्भावना को देखते हुए बॉर्डर पर टेस्टिंग की व्यवस्था सुनिश्चित किए जाने के निर्देश दिए। बाजार में सोशल डिस्टेंसिंग एवं कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर के अनुपालन की व्यवस्था चाक चौबन्द रखने और आइवरमैक्टिन का वितरण 30 जून तक अवश्य पूरा करने के निर्देश भी दिए। टीकाकरण के लिए जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने पर भी ज़ोर दिया।

बैठक में मुख्यमंत्री के मुख्य सलाहकार शत्रुघ्न सिंह, डीजीपी अशोक कुमार, सचिव अमित नेगी, स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. तृप्ति बहुगुण और वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से कुमाऊं के कमिश्नर अरविन्द सिंह ह्यांकी, गढ़वाल कमिश्नर रविनाथ रमन, सभी जिलाधिकारी, एसएसपी एवं सीएमओ उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here