धामी धमाका:: 24 IAS के तबादले:CM पुष्कर ने किसी को गद्दी से नवाजा तो किसी को उतारा

0
865

ACS मनीषा को वित्त तो आनंदबर्द्धन को गृह:सौजन्या को ऊर्जा:दीपक UPCL-पिटकुल के MD

R Rajesh देहरादून के DM:बृजेश संत VC-MDDA:रणवीर आबकारी आयुक्त

Chetan Gurung

IAS अफसरों के धमाकेदार तबादले कर सिस्टम सुधारने की ओर CM पुष्कर सिंह धामी

5 दिनों के गढ़वाल-कुमायूं दौरे से एक रात पहले CM पुष्कर सिंह धामी ने जबर्दस्त तबादला धमाका करते हुए 24 सीनियर IAS अफसरों के तबादले कर दिए। फेरबदल में किसी को तगड़ा झटका लगा तो किसी की बल्ले-बल्ले हुई। ACS आनंदबर्द्धन को उम्मीदों के मुताबिक गृह महकमा भी सौंप दिया गया। ACS मनीषा पँवार वित्त विभाग की नई बॉस होंगी। संभावनाओं के अनुरूप ही R Rajesh Kumar को देहरादून का DM बना दिया गया। बृजेश संत को VC-MDDA और आपदा सचिव SA मुरुगेशन खेल तथा युवा कल्याण सचिव भी बनाए गए। कुम्भ मेलाधिकारी दीपक रावत को UPCL-पिटकुल का MD बनाया गया, जो बहुत अहम ज़िम्मेदारी है, जबकि सचिव सौजन्या नई ऊर्जा सचिव हो गईं।

त्रिवेन्द्र सिंह रावत और उनकी जगह आए तीरथ सिंह रावत को इसलिए भी कमजोर CM माना गया था कि दोनों पर नौकरशाही के चंगुल में फंसे होने के आरोप लगते थे। तीरथ तो एक भी महत्वपूर्ण तबादला कर नहीं पाए थे। पुष्कर ने ऐसे-ऐसे नौकरशाहों के कद को फेरबदल में छोटा कर दिया, जो बहुत बड़े माने जाते थे। CS ओमप्रकाश को हटा के सुखबीर सिंह संधु को केंद्र सरकार से ला के पुष्कर ने पहले ही ईरादे जतला दिए थे कि वह न सिर्फ तूफानी उत्तराखंड चाहते हैं बल्कि नौकरशाही के चंगुल से सिस्टम को बाहर भी निकालने के लिए बेकरार हैं।

पिछले कुछ दिनों से वह लगातार तबादलों पर अपने विश्वसनीय विशेषज्ञों और मुख्य सचिव-ACS आनंदबर्द्धन के साथ सलाह कर रहे थे। पहाड़ों के दौरे पर जाने से पहले वह तबादलों का बादल फाड़ गए। इस सुनामी में कई बह गए तो कई बाल-बाल ही बचे। उनके भी पूरी तरह बचने की गारंटी नहीं है। मुमकिन है कि अगले दौर में उनका नंबर भी आ जाए। ये तो पहले से तय था कि आनंदबर्द्धन गृह महकमा भी संभालेंगे। वह मुख्यमंत्री के ACS भी हैं।

फेरबदल में ACS मनीषा पँवार (वित्त भी दिया), सौजन्या (ऊर्जा मिला), R Minakshi Sundram (कृषि मिला), डॉ. पंकज पांडे (राजस्व मिला), भूपाल सिंह मनराल (खाद्य-आपूर्ति मिला), बृजेश संत (VC-MDDA बने), दीपक रावत (UPCL-पिटकुल MD-उरेडा Director बने) के वजन बढ़े और नई सरकार का उनमें विश्वास अधिक दिखा। SA मुरुगेशन (खेल-युवा कल्याण मिला), हरी सेमवाल (सिंचाई मिला), रणवीर सिंह चौहान (आबकारी आयुक्त बने) बराबरी पर रहे।

उनको अहम महकमे मिले लेकिन कुछ हटे भी। बाकी सभी के पर कतर दिए गए। उनको मामूली या फिर कम अहम महकमे दे दिए गए। R Rajesh को राजधानी का DM बनाया जाना तय दिख रहा था। वही हुआ। सरकार किसी सीनियर (प्रभारी सचिव स्तर के Direct IAS) को ही देहरादून का DM बनाना चाह रही थी। इसमें विकल्प बहुत कम थे। अब अगली सूची DM’s और SSP’s की निकालने की तैयारी हो रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here