`Newsspace’ में स्टोरी आई:15 मिनट में ही UHUDA की Website में फिर चमकने लगे CM पुष्कर

Related Articles

साइट कल रात से ही CM के तौर पर तीरथ की तस्वीर दिखा रहा था  

Chetan Gurung

आज सुबह 11.01 बजे website में cm की जगह पूर्व cm तीरथ सिंह रावत दिख रहे थे

ये `Newsspace’ की विश्वसनीयता और असर का कमाल है कि हरिद्वार स्थित Uttarakhand Housing Urban Development Authority की website https://uhuda.org:8443/easeapp/ में CM के तौर पर अचानक झलक रही तीरथ सिंह रावत की सूरत स्टोरी छपने के 15 मिनट के भीतर हटा दी गई और CM पुष्कर सिंह धामी फिर से चमकने लगे।

Website में ये कमाल कल रात से होने लगा था। जब दीपक रावत, जो इसके बॉस थे, का तबादला UPCL-पिटकुल और उरेडा निदेशक के तौर पर हो गया। इस बारे में दीपक ने `Newsspace’ से पूछे जाने पर कहा कि ये कैसे हो गया, पता नहीं लेकिन वह इसको ठीक करा रहे हैं। इसके बाद उन्होंने इस गलती को तत्काल ठीक करा भी दिया। इसमें 15 मिनट ही बामुश्किल लगे। Website में अब फिर से पुष्कर की तस्वीर ही CM वाले खाने में दिख रही।

इसमें शक नहीं कि ये Authority की बहुत गंभीर कोताही थी। इतनी बड़ी लापरवाही और गलती आखिर कैसे हो गई, और किस स्तर पर हुई, ये निश्चित रूप से जांच का विषय है। ये मालूम नहीं कि website को खुद प्राधिकरण अपडेट करता है या किसी कंपनी को आउटसोर्स किया हुआ है। प्राधिकरण में कोई न कोई अधिकारी website के ऑपरेशन का जिम्मा जरूर संभाले होगा। ऐसे में इस किस्म की गलती कैसे हो गई, सोचने वाली बात है। ये भी ताज्जुब की बात है कि इतनी बड़ी गलती की तरफ प्राधिकरण के अफसरों का ध्यान गया ही नहीं।

इसका मतलब ये भी हो सकता है कि uhuda की website को या तो बहुत कम लोग हिट करते हैं या फिर इसका संचालन करने वाले लापरवाह किस्म के हैं। जो CM से जुड़े तथ्यों को भी गंभीरता से नहीं लेते हैं। प्राधिकरण यूं भी पहले से ही नक्शों को लटकाए रखने और अजीबोगरीब किस्म की आपत्तियाँ लगा के लोगों को परेशान करने के लिए सुर्खियां पता रहा है। ये मामला तत्काल ही CM सचिवालय तक भी चला गया था। उसके स्तर पर भी इस लापरवाही-गलती की जानकारी तत्काल जुटाई गई। ये जान बूझ के की गई शरारत है या फिर गंभीर चूक भर है, ये साफ नहीं हुआ है।

More on this topic

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisment

Popular stories

You cannot copy content of this page