कोरोना की तीसरी लहर थामने को कसी कमर:DM’s-अफसरों को CM पुष्कर का अल्टिमेटम

0
268

31 जुलाई की Dead Line की तय:टेस्टिंग-टीकाकरण को बढ़ावा दिए जाएंगे

Chetan Gurung

दुनिया डरी पड़ी है कि कोरोना की तीसरी लहर भी आ गई तो क्या होगा। इसके मद्देनजर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरूवार के दिन शासन के उच्चाधिकारियों एवं जिलाधिकारियों को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये सख्त निर्देश दिए कि कोविड-19 से बचाव के लिए हर मुमकिन कदम उठाए जाएँ। कोई हीला हवाली बर्दाश्त नहीं की जाएगी। व्यवस्थाओं की समीक्षा भी की।

उन्होंने सभी जिलाधिकारियों से व्यवस्थाओं की जानकारी प्राप्त की। साथ ही साफ हिदायत दी कि अस्पतालों में  ऑक्सीजन, ऑक्सीजन बेड, आईसीयू बेड तथा बच्चों के लिए अलग से ऑक्सीजन व आइसीयू बेडों की व्यवस्था सुनिश्चित के जाए। इसके लिए 31 जुलाई तक की डेडलाइन तय भी कर दी। उन्होंने कहा कि जहां भी इस कोरोना से जंग के लिए चिकित्सकों अथवा धनराशि की जरूरत होगी, उसकी व्यवस्था कर दी जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कोविड से बचाव में टेस्टिंग तथा टीकाकरण बेहद जरूरी करार देते हुए कहा कि पिछले कुछ समय से कोविड संक्रमण के मामलों में कमी आई है, परंतु अभी भी पूरी सावधानी व सतर्कता बरतने की आवश्यकता है। उन्होंने सभी जिला अस्पतालों, सीएससी, पीएससी में भी हर किस्म की सुविधाएं तैयार रखने के निर्देश दिए। राज्य में Military Hospitals में कोविड से सम्बन्धित उपचार के लिए अतिरिक्त बेडों की व्यवस्था तथा वैक्सीन की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता के लिए रक्षा मंत्री एवं गृह मंत्री से बात करने का वादा भी किया।

पुष्कर ने ज़ोर दिया कि DM सभी जिला अस्पतालों में की जाने वाली व्यवस्थाओं का आंकलन भी करें। इससे आवश्यकता पड़ने पर एक ही अस्पताल पर दबाव नहीं पड़ेगा। इस सम्बन्ध में जन जागरूकता के प्रसार पर भी ध्यान देने को कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 के दृष्टिगत पर्यटन से जुड़े लोगों, व्यवसायियों के लिए  200 करोड़ रुपए के पैकेज की व्यवस्था की गई है। पैसा सीधे लाभार्थी के खातों में जमा की जाएगी।

मुख्य सचिव डॉ सुखबीर सिंह सन्धु ने जिलाधिकारियों से कोविड-19 की third wave की चुनौती का सामना करने के लिए तैयारी रखने को कहा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को बढ़ाने में भी सफल होंगे। कोविड के बाद इन बुनियादी ढांचों का कैसे बेहतर उपयोग हो सके, इस पर भी ध्यान दिया जाए। उन्होंने सभी विभागों से समन्वय कर समस्याओं का बेहतर ढंग से समाधान करने की भी अपेक्षा की।

सचिव (स्वास्थ्य) अमित नेगी ने कोविड-19 के बचाव के सम्बन्ध में राज्य स्तर पर की गई गई व्यवस्थाओं का प्रस्तुतीकरण दिया गया। बैठक में अपर मुख्य सचिव आनन्द बर्द्धन, सचिव डॉ पंकज कुमार पाण्डेय, डॉ रणजीत सिन्हा तथा स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here