Top-75 का जश्न!!Chairman डॉ कमल पहुंचे और Graphic Era ढोल-नगाड़ों-Dance की मस्ती से झूम उठा

0
116

विवि की रैंकिंग और प्लेसमेंट पैकेज और बढ़ाने का नया लक्ष्य तय हुआ

Chetan Gurung

Graphic Era पहुँचने पर ग्रुप के Chairman डॉ.कमल घनशाला का गर्मजोशी से स्वागत किया गया

केंद्र सरकार की सूची में Graphic Era विवि के इंजीनियरिंग शिक्षा में लगातार दूसरे साल Top-100 पर आने की खुशी कैंपस में रुक नहीं रही। आज ग्रुप के Chairman डॉ.कमल घनशाला के क्लेमेंटाउन स्थित डीम्ड विवि में पहुँचते ही उनका कैंपस ढ़ोल-नगाड़ों की धमाधम से गूंज उठा। छात्रा-छात्राओं का जोश और इस खुशी में Dance देखने लायक था। डॉ. घनशाला ने विवि की लगातार अहम कामयाबियों के लिए विवि के शिक्षकों और प्रतिभावान-मेहनती छात्र-छात्राओं को पूरा श्रेय दिया।

उन्होंने कहा कि ग्राफ़िक एरा ने पिछले कई सालों से NIRF रैंकिंग में कंसिस्टेंसी दिखाई है। ये मौजूदा और पूर्व के शिक्षकों-छात्रों-एल्युम्नी की मेहनत और संकल्प का नातीजा है। केन्द्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने इस वर्ष की NIRF रैंकिंग जारी कर दी है।  आज ही डॉ.कमल ग्राफ़िक एरा के भीमताल कैंपस से देहरादून पहुंचे। डॉ  घनशाला ने कहा कि विवि की इस उपलब्धि के लिए छात्र-छात्राओं को विश्वविधालय के सभी एलुमनाई के लिए भी तालियां बजानी चाहिए। 

उन्होंने कहा कि इस तरह की रैंकिंग  360 डिग्री फीडबैक के आधार पर की जाती है।  इसमें छात्र-छात्रों, एलुमनाई, कम्पनीज, फैकल्टी मेंबर्स और अन्य एडवांस संस्थानों की फैकल्टीज, रिसर्च, एक्स्ट्रा करीकुलर एक्टिविटीज सरीखे कई अहम बिन्दुओं पर भी ध्यान दिया जाता है।  ग्राफिक एरा की ये खासियत है कि वह NIRF  रैंकिंग्स में कंसिस्टेंट रहा है। 2018-19 में विवि 100 से 150 टॉप विश्वविद्यालों की सूची में थे।  पिछले साल से ग्राफ़िक एरा देश की टॉप-100 यूनिवर्सिटीज की लिस्ट में बना हुआ है। 

इंजीनियरिंग शिक्षा में ग्राफ़िक एरा निरंतर रूप से सीढ़ी चढ़ रहा है।  2019 में ग्राफ़िक एरा इस श्रेणी में 104 वें स्थान पर था।  पिछले साल 89 वें स्थान पर और इस वर्ष 14 पायदान और ऊपर चढ़ कर ग्राफ़िक एरा 75 वें स्थान पर रहा।   ग्रुप के Chairman ने कहा कि ग्राफ़िक एरा छात्र-छात्राओं के शानदार प्लेसमेंट, पेटेंट, शोध ने इस रैंकिंग को समर्थन दिया। छात्र  गूगल, अमेज़न, माइक्रोसॉफ्ट, एडोबी जैसी नामी कंपनियों में प्लेसमेंट पा रहे हैं।  2000-23 बैच के स्टूडेंट्स का भी 48 लाख रुपयों के पैकेज में प्लेसमेंट हो गया है।

डॉ घनशाला ने कहा कि अधिकतर छात्र मध्यम दर्जे के परिवार से आते है।  उनके माँ बाप उन्हें बैंक लोन लेकर पढ़ाते है।  इन बच्चों को नौकरी की जरुरत होती है।  हलाकि कुछ समय बाद जब वे कम्फर्टेबल हो जाते है , तो हम उन्हें अपना खुद का उद्यम शुरू करने के लिए भी प्रोत्साहित (encourage) करते है।  यूनिवर्सिटी के चांसलर डॉ RC जोशी, कुलपति डॉ  राकेश कुमार शर्मा , ग्राफ़िक एरा हिल यूनिवर्सिटी की प्रो VC डॉ ज्योति छाबरा,रजिस्ट्रार ओमकार नाथ पंडित  भी डॉ.कमल के स्वागत में मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here