चार धाम दर्शन की GuideLines::न घंटी बजा सकेंगे न तिलक लगेगा, न कुंड स्नान होगा

0
289

सभी धामों में रोजाना के दर्शनार्थियों की संख्या तय:दोनों डोज़ या फिर RT-PCR (Negative) रिपोर्ट अनिवार्य:HC के आदेश के बाद यात्रा कल से शुरू  

Chetan Gurung

सरकार ने HC के आदेश के फैसले के बाद कल 18 सितंबर से चार धाम यात्रा शुरू करने के लिए आज Corona से बचाव के मद्देनजर GuideLines जारी कर दी। केदारनाथ-बद्रीनाथ-गंगोत्री-यमुनोत्री धाम में रोजाना के दर्शनार्थियों की तादाद तय की गई है। ये भी सुनिश्चित किया गया है कि न तो घंटे बजाए जा सकेंगे, न ही माथे पर तिलक ही लगाए जाएंगे। उत्तराखंड वालों को E पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन की जरूरत नहीं होगी लेकिन केरल-महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश वालों को दोनों डोज़ लगी होने के बावजूद 72 घंटे पहले की RT-PCR नेगेटिव रिपोर्ट दिखाना अनिवार्य किया गया है।

सचिव हरिचन्द सेमवाल की तरफ से जारी SoP में यात्रा कैसे होगी और क्या-क्या बंदोबस्त सरकार ने कोरोना से बचाव के लिए किए हैं, उसका विस्तार से खुलासा किया है। बाहरी राज्यों के लोगों को देहरादून स्मार्ट सिटी के पोर्टल (http://smartcitydehradun.uk.gov.in) पर रजिस्ट्रेशन करना अनिवार्य किया गया है। उत्तराखंड चार धाम देवस्थानम बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट ((https://devasthanam.uk.gov.in & https://badrinath-kedarnath.gov.in) से E-पास दर्शन के लिए जारी होंगे।

बाहरी तीर्थ यात्रियों को दोनों डोज़ लगे होने के बाद भी 15 दिन बाद ही दर्शन की अनुमति होगी। बद्रीनाथ (1000), केदारनाथ (800), गंगोत्री (600) और यमुनोत्री (400) के रोजाना के दर्शनार्थियों की तादाद भी तय की गई है। जगह-जगह चेक पॉइंट्स की स्थापना, कचरा प्रबंधन-सफाई व्यवस्था, मास्क की सुनिश्चितता, सोशल डिस्टेन्सिंग,चिकित्सा सुविधाएं, दवाएं, एयर एंबुलेंस और अन्य व्यवस्थाएँ भी सरकार ने की है। Covid प्रोटोकॉल का पालन सख्ती से कराया जाएगा।

एक यात्रा पंजीकरण पर अधिकतम 6 लोगों को दर्शन की सुविधा दी गई है। वैधता अवधि दो दिनों के लिए होगी। बद्रीनाथ धाम से सटे पांडुकेश्वर-माणा-हनुमान चट्टी के लोगों को पास की व्यवस्था जिला प्रशासन करेगा। दर्शनार्थी प्रसाद चढ़ा नहीं सकेंगे। दान भी सिर्फ तय दान पात्र में ही डाल सकेंगे। तृप्त कुंडों-कुंडों में स्नान पर रोक होगी। मंदिर परिसर में किसी भी चीज का स्पर्श प्रतिबंधित किया गया है। दर्शन की और प्रवेश तथा निकासी की भी व्यवस्था तय की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here